gulon ko sunna zara tum sadaaein bheji hain | गुलों को सुनना ज़रा तुम सदाएँ भेजी हैं - Gulzar

gulon ko sunna zara tum sadaaein bheji hain
gulon ke haath bahut si duaaein bheji hain

jo aftaab kabhi bhi ghuroob hota nahin
hamaara dil hai usi ki shuaaein bheji hain

agar jalaae tumhein bhi shifaa mile shaayad
ik aise dard ki tum ko shuaaein bheji hain

tumhaari khushk si aankhen bhali nahin lagtiin
vo saari cheezen jo tum ko rulaayein bheji hain

siyaah rang chamakti hui kanaari hai
pahan lo achhi lagengi ghataaein bheji hain

tumhaare khwaab se har shab lipt ke sote hain
sazaayein bhej do ham ne khataayein bheji hain

akela patta hawa mein bahut buland uda
zameen se paanv uthao hawaaein bheji hain

गुलों को सुनना ज़रा तुम सदाएँ भेजी हैं
गुलों के हाथ बहुत सी दुआएँ भेजी हैं

जो आफ़्ताब कभी भी ग़ुरूब होता नहीं
हमारा दिल है उसी की शुआएँ भेजी हैं

अगर जलाए तुम्हें भी शिफ़ा मिले शायद
इक ऐसे दर्द की तुम को शुआएँ भेजी हैं

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं

सियाह रंग चमकती हुई कनारी है
पहन लो अच्छी लगेंगी घटाएँ भेजी हैं

तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं
सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं

अकेला पत्ता हवा में बहुत बुलंद उड़ा
ज़मीं से पाँव उठाओ हवाएँ भेजी हैं

- Gulzar
1 Like

Aah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar

As you were reading Shayari by Gulzar

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar

Similar Moods

As you were reading Aah Shayari Shayari