sher se shaayri se darte hain | शेर से शाइरी से डरते हैं - Habib Jalib

sher se shaayri se darte hain
kam-nazar raushni se darte hain

log darte hain dushmani se tiri
ham tiri dosti se darte hain

dehr mein aah-e-be-kasaan ke siva
aur ham kab kisi se darte hain

ham ko ghairoon se dar nahin lagta
apne ahbaab hi se darte hain

daar-e-hashr bakhsh de shaayad
haan magar maulvi se darte hain

roothta hai to rooth jaaye jahaan
un ki ham be-rukhi se darte hain

har qadam par hai mohtasib jaalib
ab to ham chaandni se darte hain

शेर से शाइरी से डरते हैं
कम-नज़र रौशनी से डरते हैं

लोग डरते हैं दुश्मनी से तिरी
हम तिरी दोस्ती से डरते हैं

दहर में आह-ए-बे-कसाँ के सिवा
और हम कब किसी से डरते हैं

हम को ग़ैरों से डर नहीं लगता
अपने अहबाब ही से डरते हैं

दावर-ए-हश्र बख़्श दे शायद
हाँ मगर मौलवी से डरते हैं

रूठता है तो रूठ जाए जहाँ
उन की हम बे-रुख़ी से डरते हैं

हर क़दम पर है मोहतसिब 'जालिब'
अब तो हम चाँदनी से डरते हैं

- Habib Jalib
1 Like

Raqeeb Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Raqeeb Shayari Shayari