choor tha zakhamon se dil zakhmi jigar bhi ho gaya | चूर था ज़ख़्मों से दिल ज़ख़्मी जिगर भी हो गया - Habib Jalib

choor tha zakhamon se dil zakhmi jigar bhi ho gaya
us ko rote the ki soona ye nagar bhi ho gaya

log usi soorat pareshaan hain jidhar bhi dekhiye
aur vo kahte hain koh-e-gham to sar bhi ho gaya

baam-o-dar par hai musallat aaj bhi shaam-e-alam
yun to in galiyon se khurshid-e-sehr bhi ho gaya

us sitamgar ki haqeeqat ham pe zaahir ho gai
khatm khush-fahmi ki manzil ka safar bhi ho gaya

चूर था ज़ख़्मों से दिल ज़ख़्मी जिगर भी हो गया
उस को रोते थे कि सूना ये नगर भी हो गया

लोग उसी सूरत परेशाँ हैं जिधर भी देखिए
और वो कहते हैं कोह-ए-ग़म तो सर भी हो गया

बाम-ओ-दर पर है मुसल्लत आज भी शाम-ए-अलम
यूँ तो इन गलियों से ख़ुर्शीद-ए-सहर भी हो गया

उस सितमगर की हक़ीक़त हम पे ज़ाहिर हो गई
ख़त्म ख़ुश-फ़हमी की मंज़िल का सफ़र भी हो गया

- Habib Jalib
1 Like

Aadmi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Aadmi Shayari Shayari