is se phoolon waale bhi aajiz aa gaye hain | इस से फूलों वाले भी आजिज़ आ गए हैं - Idris Babar

is se phoolon waale bhi aajiz aa gaye hain
teri khaatir jo guldasta dhundh raha hai

dil ko dhakke khaate nikale jaate dekh ke
saahil apna pakka dariya dhundh raha hai

tasma khula jaise azaad talaazma ho waah
ek pahan ke doosra joota dhundh raha hai

us ke flat se baahar koi door ka dost
paas ke bas stop ka rasta dhundh raha hai

bas kar de ab kab se matla dhundh raha hai
kya koi teesra chautha misra dhundh raha hai

em-e kiye bint-e-mochi ko chautha saal hai
tab se vo job aur karmoo rishta dhundh raha hai

har masnooi pankha jhoota mek-ap kar ke
zaat ki shahr-panah mein rakhna dhundh raha hai

lamp jalate aur bujha ke phir se jalate
ya vo mujhe gum karta hai ya dhundh raha hai

paarti thap mehmaan-e-khususi shair-e-azam
patli gali mein paan ka khokha dhundh raha hai

yaaro baithe nahren khodo baatein chhodo
main use dhundh luun mujhe jo tanhaa dhundh raha hai

ik ladki apne liye ladki dhundh rahi hai
ik ladka apne liye ladka dhundh raha hai

mobile par app lagao kaam chalaao
kaun purane shehar ka naqsha dhundh raha hai

rozay rakhwao khulwao jannat paao
banda to do waqt ka khaana dhundh raha hai

meri iklauti tee-shirt pe qabza jamaaye
achha roommate apna kachcha dhundh raha hai

khil-khila ke load-shedding se faiz utha ke
yusuf-jani tujhe ye andha dhundh raha hai

gadle paani se dhulte station par kis ko
garma-garm si chaai ka piyaala dhundh raha hai

seene par do qabron kai ta'aweez bandhe hain
bach kar dhoop mujhe ik saaya dhundh raha hai

yoo-ee-tee mein chuttiyaan hone waali hain dost
kaun sa hostel kis ka kamra dhundh raha hai

इस से फूलों वाले भी आजिज़ आ गए हैं
तेरी ख़ातिर जो गुलदस्ता ढूँड रहा है

दिल को धक्के खाते निकाले जाते देख के
साहिल अपना पक्का दरिया ढूँड रहा है

तस्मा खुला जैसे आज़ाद तलाज़मा हो वाह
एक पहन के दूसरा जूता ढूँड रहा है

उस के फ़्लैट से बाहर कोई दूर का दोस्त
पास के बस स्टाप का रस्ता ढूँड रहा है

बस कर दे अब, कब से मतला ढूँड रहा है
क्या कोई तीसरा चौथा मिस्रा ढूँड रहा है

एम-ए किए बिंत-ए-मोची को चौथा साल है
तब से वो जॉब और कर्मू रिश्ता ढूँड रहा है

हर मसनूई पंखा झूटा मेक-अप कर के
ज़ात की शहर-पनाह में रख़्ना ढूँड रहा है

लैम्प जलाते और बुझा के फिर से जलाते
या वो मुझे गुम करता है या ढूँड रहा है

पार्टी ठप मेहमान-ए-ख़ुसूसी शाइर-ए-आज़म
पतली गली में पान का खोखा ढूँड रहा है

यारो बैठे नहरें खोदो बातें छोड़ो
मैं उसे ढूँड लूँ मुझे जो तन्हा ढूँड रहा है

इक लड़की अपने लिए लड़की ढूँड रही है
इक लड़का अपने लिए लड़का ढूँड रहा है

मोबाइल पर ऐप लगाओ काम चलाओ
कौन पुराने शहर का नक़्शा ढूँड रहा है

रोज़े रखवाओ खुलवाओ जन्नत पाओ
बंदा तो दो वक़्त का खाना ढूँड रहा है

मेरी इकलौती टी-शर्ट पे क़ब्ज़ा जमाए
अच्छा रूममेट अपना कच्छा ढूँड रहा है

खिल-खिला के लोड-शेडिंग से फ़ैज़ उठा के
यूसुफ़-जानी तुझे ये अंधा ढूँड रहा है

गदले पानी से धुलते स्टेशन पर किस को
गर्मा-गर्म सी चाय का पियाला ढूँड रहा है

सीने पर दो क़ब्रों कै ता'वीज़ बंधे हैं
बच कर, धूप! मुझे इक साया ढूँड रहा है

यू-ई-टी में छुट्टियाँ होने वाली हैं दोस्त
कौन सा हॉस्टल किस का कमरा ढूँड रहा है

- Idris Babar
1 Like

Dhoop Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Idris Babar

As you were reading Shayari by Idris Babar

Similar Writers

our suggestion based on Idris Babar

Similar Moods

As you were reading Dhoop Shayari Shayari