samundar is qadar shoreeda-sar kyun lag raha hai | समुंदर इस क़दर शोरीदा-सर क्यूँ लग रहा है - Iftikhar Arif

samundar is qadar shoreeda-sar kyun lag raha hai
kinaare par bhi ham ko itna dar kyun lag raha hai

vo jis ki jurat-e-parvaaz ke charche bahut the
wahi taair hamein be-baal-o-par kyun lag raha hai

vo jis ke naam se raushan the mustaqbil ke sab khwaab
wahi chehra hamein naa-mo'tabar kyun lag raha hai

bahaarein jis ki shaakhon se gawaahi maangti theen
wahi mausam hamein ab be-samar kyun lag raha hai

dar-o-deewar itne ajnabi kyun lag rahe hain
khud apne ghar mein aakhir itna dar kyun lag raha hai

समुंदर इस क़दर शोरीदा-सर क्यूँ लग रहा है
किनारे पर भी हम को इतना डर क्यूँ लग रहा है

वो जिस की जुरअत-ए-पर्वाज़ के चर्चे बहुत थे
वही ताइर हमें बे-बाल-ओ-पर क्यूँ लग रहा है

वो जिस के नाम से रौशन थे मुस्तक़बिल के सब ख़्वाब
वही चेहरा हमें ना-मो'तबर क्यूँ लग रहा है

बहारें जिस की शाख़ों से गवाही माँगती थीं
वही मौसम हमें अब बे-समर क्यूँ लग रहा है

दर-ओ-दीवार इतने अजनबी क्यूँ लग रहे हैं
ख़ुद अपने घर में आख़िर इतना डर क्यूँ लग रहा है

- Iftikhar Arif
0 Likes

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari