gali-koochon mein hangaama bapaa karna padega | गली-कूचों में हंगामा बपा करना पड़ेगा - Iftikhar Arif

gali-koochon mein hangaama bapaa karna padega
jo dil mein hai ab us ka tazkira karna padega

nateeja karbala se mukhtalif ho ya wahi ho
madeena chhodne ka faisla karna padega

vo kya manzil jahaan se raaste aage nikal jaayen
so ab phir ik safar ka silsila karna padega

lahu dene lagi hai chashm-e-khun-basta so is baar
bhari aankhon se khwaabon ko rihaa karna padega

mubaada qissa-e-ahl-e-junoon na-gufta rah jaaye
naye mazmoon ka lahja naya karna padega

darakhton par samar aane se pehle aaye the phool
falon ke ba'ad kya hoga pata karna padega

ganwa baithe tiri khaatir ham apne mehr o mahtaab
bata ab ai zamaane aur kya karna padega

गली-कूचों में हंगामा बपा करना पड़ेगा
जो दिल में है अब उस का तज़्किरा करना पड़ेगा

नतीजा कर्बला से मुख़्तलिफ़ हो या वही हो
मदीना छोड़ने का फ़ैसला करना पड़ेगा

वो क्या मंज़िल जहाँ से रास्ते आगे निकल जाएँ
सो अब फिर इक सफ़र का सिलसिला करना पड़ेगा

लहू देने लगी है चश्म-ए-ख़ूँ-बस्ता सो इस बार
भरी आँखों से ख़्वाबों को रिहा करना पड़ेगा

मुबादा क़िस्सा-ए-अहल-ए-जुनूँ ना-गुफ़्ता रह जाए
नए मज़मून का लहजा नया करना पड़ेगा

दरख़्तों पर समर आने से पहले आए थे फूल
फलों के बा'द क्या होगा पता करना पड़ेगा

गँवा बैठे तिरी ख़ातिर हम अपने महर ओ माहताब
बता अब ऐ ज़माने और क्या करना पड़ेगा

- Iftikhar Arif
0 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Iftikhar Arif

As you were reading Shayari by Iftikhar Arif

Similar Writers

our suggestion based on Iftikhar Arif

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari