tujh se ik haath kya mila liya hai | तुझ से इक हाथ क्या मिला लिया है - Imran Aami

tujh se ik haath kya mila liya hai
shehar ne waqia bana liya hai

ham to ham the ki us pari-roo ne
aaine ka bhi dil chura liya hai

warna ye sail-e-aab le jaata
shehar ko aag ne bacha liya hai

aisi naav mein kya safar karna
jis ne dariya ko dukh suna liya hai

kooza-gar ne hamaari mitti se
kya banaana tha kya bana liya hai

dekhiye pehle kaun marta hai
saanp ne aadmi ko kha liya hai

jaane waalon ko ab ijaazat hai
ham ne apna diya bujha liya hai

jab koi baat hi nahin aamī
aasmaan sar pe kyun utha liya hai

तुझ से इक हाथ क्या मिला लिया है
शहर ने वाक़िआ बना लिया है

हम तो हम थे कि उस परी-रू ने
आइने का भी दिल चुरा लिया है

वर्ना ये सैल-ए-आब ले जाता
शहर को आग ने बचा लिया है

ऐसी नाव में क्या सफ़र करना
जिस ने दरिया को दुख सुना लिया है

कूज़ा-गर ने हमारी मिट्टी से
क्या बनाना था क्या बना लिया है

देखिए पहले कौन मरता है
साँप ने आदमी को खा लिया है

जाने वालों को अब इजाज़त है
हम ने अपना दिया बुझा लिया है

जब कोई बात ही नहीं 'आमी'
आसमाँ सर पे क्यूँ उठा लिया है

- Imran Aami
4 Likes

Kashmir Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Imran Aami

As you were reading Shayari by Imran Aami

Similar Writers

our suggestion based on Imran Aami

Similar Moods

As you were reading Kashmir Shayari Shayari