haath aa kar laga gaya koi | हाथ आ कर लगा गया कोई - Kaifi Azmi

haath aa kar laga gaya koi
mera chappar utha gaya koi

lag gaya ik masheen mein main bhi
shehar mein le ke aa gaya koi

main khada tha ki peeth par meri
ishtehaar ik laga gaya koi

ye sadi dhoop ko tarasti hai
jaise suraj ko kha gaya koi

aisi mehngaai hai ki chehra bhi
bech ke apna kha gaya koi

ab vo armaan hain na vo sapne
sab kabootar uda gaya koi

vo gaye jab se aisa lagta hai
chhota mota khuda gaya koi

mera bachpan bhi saath le aaya
gaav se jab bhi aa gaya koi

हाथ आ कर लगा गया कोई
मेरा छप्पर उठा गया कोई

लग गया इक मशीन में मैं भी
शहर में ले के आ गया कोई

मैं खड़ा था कि पीठ पर मेरी
इश्तिहार इक लगा गया कोई

ये सदी धूप को तरसती है
जैसे सूरज को खा गया कोई

ऐसी महँगाई है कि चेहरा भी
बेच के अपना खा गया कोई

अब वो अरमान हैं न वो सपने
सब कबूतर उड़ा गया कोई

वो गए जब से ऐसा लगता है
छोटा मोटा ख़ुदा गया कोई

मेरा बचपन भी साथ ले आया
गाँव से जब भी आ गया कोई

- Kaifi Azmi
4 Likes

Aarzoo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaifi Azmi

As you were reading Shayari by Kaifi Azmi

Similar Writers

our suggestion based on Kaifi Azmi

Similar Moods

As you were reading Aarzoo Shayari Shayari