aankh bhar aayi kisi se jo mulaqaat hui | आँख भर आई किसी से जो मुलाक़ात हुई - Manzar Bhopali

aankh bhar aayi kisi se jo mulaqaat hui
khushk mausam tha magar toot ke barsaat hui

din bhi dooba ki nahin ye mujhe maaloom nahin
jis jagah bujh gaye aankhon ke diye raat hui

koi hasrat koi armaan koi khwaahish hi na thi
aise aalam mein meri khud se mulaqaat hui

ho gaya apne padosi ka padosi dushman
aadmiyyat bhi yahan nazr-e-fasaadaat hui

isee honi ko to qismat ka likha kahte hain
jeetne ka jahaan mauqa tha wahin maat hui

is tarah guzra hai bachpan ki khilone na mile
aur jawaani mein budhape se mulaqaat hui

आँख भर आई किसी से जो मुलाक़ात हुई
ख़ुश्क मौसम था मगर टूट के बरसात हुई

दिन भी डूबा कि नहीं ये मुझे मालूम नहीं
जिस जगह बुझ गए आँखों के दिए रात हुई

कोई हसरत कोई अरमाँ कोई ख़्वाहिश ही न थी
ऐसे आलम में मिरी ख़ुद से मुलाक़ात हुई

हो गया अपने पड़ोसी का पड़ोसी दुश्मन
आदमिय्यत भी यहाँ नज़्र-ए-फ़सादात हुई

इसी होनी को तो क़िस्मत का लिखा कहते हैं
जीतने का जहाँ मौक़ा था वहीं मात हुई

इस तरह गुज़रा है बचपन कि खिलौने न मिले
और जवानी में बुढ़ापे से मुलाक़ात हुई

- Manzar Bhopali
2 Likes

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Manzar Bhopali

As you were reading Shayari by Manzar Bhopali

Similar Writers

our suggestion based on Manzar Bhopali

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari