patta patta boota boota haal hamaara jaane hai | पत्ता पत्ता बूटा बूटा हाल हमारा जाने है - Meer Taqi Meer

patta patta boota boota haal hamaara jaane hai
jaane na jaane gul hi na jaane baagh to saara jaane hai

lagne na de bas ho to us ke gauhar-e-gosh ko baale tak
us ko falak chashm-mah-o-khur ki putli ka taara jaane hai

aage us mutakabbir ke hum khuda khuda kiya karte hain
kab maujood khuda ko vo maghroor-e-khud-aara jaane hai

aashiq sa to saada koi aur na hoga duniya mein
jee ke ziyaan ko ishq mein us ke apna waara jaane hai

charagari beemaari-e-dil ki rasm-e-shahr-e-husn nahin
warna dilbar-e-naadan bhi is dard ka chaara jaane hai

mehr o wafa o lutf-o-inaayat ek se waqif in mein nahin
aur to sab kuch tanj o kinaaya ramz o ishaara jaane hai

kya kya fitne sar par us ke laata hai maashooq apna
jis be-dil be-taab-o-tavaan ko ishq ka maara jaane hai

rakhon se deewar-e-chaman ke munh ko le hai chhupa yaani
in surakhon ke tuk rahne ko sau ka nazaara jaane hai

tishna-e-khoon hai apna kitna meer bhi naadaan talkhi-kash
dum-daar aab-e-tegh ko us ke aab-e-gawara jaane hai

पत्ता पत्ता बूटा बूटा हाल हमारा जाने है
जाने न जाने गुल ही न जाने बाग़ तो सारा जाने है

लगने न दे बस हो तो उस के गौहर-ए-गोश को बाले तक
उस को फ़लक चश्म-मह-ओ-ख़ुर की पुतली का तारा जाने है

आगे उस मुतकब्बिर के हम ख़ुदा ख़ुदा किया करते हैं
कब मौजूद ख़ुदा को वो मग़रूर-ए-ख़ुद-आरा जाने है

आशिक़ सा तो सादा कोई और न होगा दुनिया में
जी के ज़ियाँ को इश्क़ में उस के अपना वारा जाने है

चारागरी बीमारी-ए-दिल की रस्म-ए-शहर-ए-हुस्न नहीं
वर्ना दिलबर-ए-नादाँ भी इस दर्द का चारा जाने है

मेहर ओ वफ़ा ओ लुत्फ़-ओ-इनायत एक से वाक़िफ़ इन में नहीं
और तो सब कुछ तंज़ ओ किनाया रम्ज़ ओ इशारा जाने है

क्या क्या फ़ित्ने सर पर उस के लाता है माशूक़ अपना
जिस बे-दिल बे-ताब-ओ-तवाँ को इश्क़ का मारा जाने है

रख़नों से दीवार-ए-चमन के मुँह को ले है छुपा यानी
इन सुराख़ों के टुक रहने को सौ का नज़ारा जाने है

तिश्ना-ए-ख़ूँ है अपना कितना 'मीर' भी नादाँ तल्ख़ी-कश
दुम-दार आब-ए-तेग़ को उस के आब-ए-गवारा जाने है

- Meer Taqi Meer
4 Likes

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading undefined Shayari