umr bhar hum rahe sharaabi se | उम्र भर हम रहे शराबी से - Meer Taqi Meer

umr bhar hum rahe sharaabi se
dil-e-pur-khoon ki ik gulaabi se

jee dhaa jaaye hai sehar se aah
raat guzregi kis kharaabi se

khilna kam kam kali ne seekha hai
us ki aankhon ki neem-khwabi se

burqa uthte hi chaand sa nikla
daagh hoon us ki be-hijaabi se

kaam the ishq mein bahut par meer
hum hi faarigh hue shitaabi se

उम्र भर हम रहे शराबी से
दिल-ए-पुर-ख़ूँ की इक गुलाबी से

जी ढहा जाए है सहर से आह
रात गुज़रेगी किस ख़राबी से

खिलना कम कम कली ने सीखा है
उस की आँखों की नीम-ख़्वाबी से

बुर्क़ा उठते ही चाँद सा निकला
दाग़ हूँ उस की बे-हिजाबी से

काम थे इश्क़ में बहुत पर 'मीर'
हम ही फ़ारिग़ हुए शिताबी से

- Meer Taqi Meer
1 Like

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari