dil mera soz-e-nihaan se be-muhaaba jal gaya | दिल मिरा सोज़-ए-निहाँ से बे-मुहाबा जल गया - Mirza Ghalib

dil mera soz-e-nihaan se be-muhaaba jal gaya
aatish-e-khaamosh ki maanind goya jal gaya

dil mein zauq-e-wasl o yaad-e-yaar tak baaki nahin
aag is ghar mein lagi aisi ki jo tha jal gaya

main adam se bhi pare hoon warna ghaafil baar-ha
meri aah-e-aatishi'n se baal-e-anqa jal gaya

arz kijeye jauhar-e-andesha ki garmi kahaan
kuchh khayal aaya tha vehshat ka ki sehra jal gaya

dil nahin tujh ko dikhaata warna daaghoon ki bahaar
is charaaghaan ka karoon kya kaar-farma jal gaya

main hoon aur afsurdagi ki aarzoo ghalib ki dil
dekh kar tarz-e-tapaak-e-ahl-e-duniya jal gaya

khaanmaan-e-aashiqan dukaan-e-aatish-baaz hai
shola-roo jab ho gaye garm-e-tamaasha jal gaya

ta kuja afsos-e-garmi-ha-e-sohbat ai khayal
dil ba-soz-e-aatish-e-daagh-e-tamanna jal gaya

hai asad begaana-e-afsurdagi ai bekasi
dil z-andaaz-e-tapaak-e-ahl-e-duniya jal gaya

dood mera sumbulistaan se kare hai ham-sari
bas-ki shauq-e-aatish-gul se saraapa jal gaya

sham'a-ruyaan ki sar-angusht-e-hinaai dekh kar
guncha-e-gul par-fishaan parwaana-aasa jal gaya

दिल मिरा सोज़-ए-निहाँ से बे-मुहाबा जल गया
आतिश-ए-ख़ामोश की मानिंद गोया जल गया

दिल में ज़ौक़-ए-वस्ल ओ याद-ए-यार तक बाक़ी नहीं
आग इस घर में लगी ऐसी कि जो था जल गया

मैं अदम से भी परे हूँ वर्ना ग़ाफ़िल बार-हा
मेरी आह-ए-आतिशीं से बाल-ए-अन्क़ा जल गया

अर्ज़ कीजे जौहर-ए-अंदेशा की गर्मी कहाँ
कुछ ख़याल आया था वहशत का कि सहरा जल गया

दिल नहीं तुझ को दिखाता वर्ना दाग़ों की बहार
इस चराग़ाँ का करूँ क्या कार-फ़रमा जल गया

मैं हूँ और अफ़्सुर्दगी की आरज़ू 'ग़ालिब' कि दिल
देख कर तर्ज़-ए-तपाक-ए-अहल-ए-दुनिया जल गया

ख़ानमान-ए-आशिक़ाँ दुकान-ए-आतिश-बाज़ है
शो'ला-रू जब हो गए गर्म-ए-तमाशा जल गया

ता कुजा अफ़सोस-ए-गरमी-हा-ए-सोहबत ऐ ख़याल
दिल बा-सोज़-ए-आतिश-ए-दाग़-ए-तमन्ना जल गया

है 'असद' बेगाना-ए-अफ़्सुर्दगी ऐ बेकसी
दिल ज़-अंदाज़-ए-तपाक-ए-अहल-ए-दुनिया जल गया

दूद मेरा सुंबुलिस्ताँ से करे है हम-सरी
बस-कि शौक़-ए-आतिश-गुल से सरापा जल गया

शम्अ-रूयाँ की सर-अंगुश्त-ए-हिनाई देख कर
ग़ुंचा-ए-गुल पर-फ़िशाँ परवाना-आसा जल गया

- Mirza Ghalib
0 Likes

Dhoop Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Dhoop Shayari Shayari