dhamki mein mar gaya jo na baab-e-nabard tha | धमकी में मर गया जो न बाब-ए-नबर्द था - Mirza Ghalib

dhamki mein mar gaya jo na baab-e-nabard tha
ishq-e-nabard-pesha talabgaar-e-mard tha

tha zindagi mein marg ka khatka laga hua
udne se pesh-tar bhi mera rang zard tha

taaleef nuskha-ha-e-wafa kar raha tha main
majmua-e-khayaal abhi fard fard tha

dil ta jigar ki saahil-e-dariya-e-khoon hai ab
is raahguzaar mein jalwa-e-gul aage gard tha

jaati hai koi kashmakash andoh-e-ishq ki
dil bhi agar gaya to wahi dil ka dard tha

ahbaab chaaraasaazi-e-vahshat na kar sake
zindaan mein bhi khayal bayaabaan-navard tha

ye laash-e-be-kafan asad-e-khasta-jaan ki hai
haq maghfirat kare ajab azaad mard tha

धमकी में मर गया जो न बाब-ए-नबर्द था
इश्क़-ए-नबर्द-पेशा तलबगार-ए-मर्द था

था ज़िंदगी में मर्ग का खटका लगा हुआ
उड़ने से पेश-तर भी मिरा रंग ज़र्द था

तालीफ़ नुस्ख़ा-हा-ए-वफ़ा कर रहा था मैं
मजमुआ-ए-ख़याल अभी फ़र्द फ़र्द था

दिल ता जिगर कि साहिल-ए-दरिया-ए-ख़ूँ है अब
इस रहगुज़र में जल्वा-ए-गुल आगे गर्द था

जाती है कोई कश्मकश अंदोह-ए-इश्क़ की
दिल भी अगर गया तो वही दिल का दर्द था

अहबाब चारासाज़ी-ए-वहशत न कर सके
ज़िंदाँ में भी ख़याल बयाबाँ-नवर्द था

ये लाश-ए-बे-कफ़न 'असद'-ए-ख़स्ता-जाँ की है
हक़ मग़्फ़िरत करे अजब आज़ाद मर्द था

- Mirza Ghalib
0 Likes

Khyaal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Khyaal Shayari Shayari