aabroo kya khaak us gul ki ki gulshan mein nahin | आबरू क्या ख़ाक उस गुल की कि गुलशन में नहीं - Mirza Ghalib

aabroo kya khaak us gul ki ki gulshan mein nahin
hai garebaan nang-e-pairaahan jo daaman mein nahin

zof se ai giryaa kuchh baaki mere tan mein nahin
rang ho kar ud gaya jo khun ki daaman mein nahin

ho gaye hain jama ajzaa-e-nigah-e-aftaab
zarre us ke ghar ki deewaron ke rozan mein nahin

kya kahoon taariiki-e-zindaan-e-gham andher hai
pumbaa noor-o-subh se kam jis ke rozan mein nahin

raunaq-e-hasti hai ishq-e-khaana veeraan saaz se
anjuman be-shama hai gar barq khirman mein nahin

zakham silvaane se mujh par chaara-jui ka hai taan
gair samjha hai ki lazzat zakhm-e-sozan mein nahin

bas-ki hain ham ik bahaar-e-naaz ke maare hue
jalwa-e-gul ke siva gard apne madfan mein nahin

qatra qatra ik hayoola hai naye naasoor ka
khun bhi zauq-e-dard se faarigh mere tan mein nahin

le gai saaqi ki nakhwat qulzum-aashaami meri
mauj-e-may ki aaj rag meena ki gardan mein nahin

ho fishaar-e-zof mein kya naa-tawaani ki numood
qad ke jhukne ki bhi gunjaish mere tan mein nahin

thi watan mein shaan kya ghalib ki ho gurbat mein qadr
be-takalluf hoon vo musht-e-khas ki gul-khan mein nahin

आबरू क्या ख़ाक उस गुल की कि गुलशन में नहीं
है गरेबाँ नंग-ए-पैराहन जो दामन में नहीं

ज़ोफ़ से ऐ गिर्या कुछ बाक़ी मिरे तन में नहीं
रंग हो कर उड़ गया जो ख़ूँ कि दामन में नहीं

हो गए हैं जमा अजज़ा-ए-निगाह-ए-आफ़ताब
ज़र्रे उस के घर की दीवारों के रौज़न में नहीं

क्या कहूँ तारीकी-ए-ज़िन्दान-ए-ग़म अंधेर है
पुम्बा नूर-व-सुब्ह से कम जिस के रौज़न में नहीं

रौनक़-ए-हस्ती है इश्क़-ए-ख़ाना वीराँ साज़ से
अंजुमन बे-शमा है गर बर्क़ ख़िर्मन में नहीं

ज़ख़्म सिलवाने से मुझ पर चारा-जुई का है तान
ग़ैर समझा है कि लज़्ज़त ज़ख़्म-ए-सोज़न में नहीं

बस-कि हैं हम इक बहार-ए-नाज़ के मारे हुए
जल्वा-ए-गुल के सिवा गर्द अपने मदफ़न में नहीं

क़तरा क़तरा इक हयूला है नए नासूर का
ख़ूँ भी ज़ौक़-ए-दर्द से फ़ारिग़ मिरे तन में नहीं

ले गई साक़ी की नख़वत क़ुल्ज़ुम-आशामी मिरी
मौज-ए-मय की आज रग मीना की गर्दन में नहीं

हो फ़िशार-ए-ज़ोफ़ में क्या ना-तवानी की नुमूद
क़द के झुकने की भी गुंजाइश मिरे तन में नहीं

थी वतन में शान क्या 'ग़ालिब' कि हो ग़ुर्बत में क़द्र
बे-तकल्लुफ़ हूँ वो मुश्त-ए-ख़स कि गुलख़न में नहीं

- Mirza Ghalib
0 Likes

Maikada Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Maikada Shayari Shayari