nahin hai zakham koi bakhiye ke dar-khur mere tan mein | नहीं है ज़ख़्म कोई बख़िये के दर-ख़ुर मिरे तन में - Mirza Ghalib

nahin hai zakham koi bakhiye ke dar-khur mere tan mein
hua hai taar-e-ashk-e-yaas rishta chashm-e-sozan mein

hui hai maane-e-zauq-e-tamaasha khaana-veeraani
kaf-e-sailaab baaki hai b-rang-e-pumba rozan mein

vadeeat-khaana-e-bedaad-e-kaawish-ha-e-mizgaan hoon
nageen-e-naam-e-shaahid hai mere har qatra-e-khoon tan mein

bayaan kis se ho zulmat-gustaree mere shabistaan ki
shab-e-mah ho jo rakh doon pumbaa deewaron ke rozan mein

nikoohish maana-e-be-rabti-e-shor-e-junoon aayi
hua hai khanda-e-ahbaab bakhiya jeb-o-daaman mein

hue us mehr-vash ke jalwa-e-timsaal ke aage
par-afshaan jauhar aaine mein misl-e-zarra rozan mein

na jaanoon nek hoon ya bad hoon par sohbat-mukhaalif hai
jo gul hoon to hoon gul-khan mein jo khas hoon to hoon gulshan mein

hazaaron dil diye josh-e-junoon-e-ishq ne mujh ko
siyah ho kar suwaida ho gaya har qatra-e-khoon tan mein

asad zindaani-e-taaseer-e-ulfat-ha-e-khooban hoon
kham-e-dast-e-nawaazish ho gaya hai tauq gardan mein

fuzoon ki doston ne hirs-e-qaatil zauq-e-kushtan mein
hoye hain bakhiya-ha-e-zakhm jauhar tegh-e-dushman mein

tamasha kardani hai lutf-e-zakhm-e-intizaar ai dil
suwaida daagh-e-marham mardumak hai chashm-e-sozan mein

dil-o-deen-o-khirad taaraaj-e-naaz-e-jalwa-pairaai
hua hai jauhar-e-aaina khel-e-mor khirman mein

nikoohish maane-e-deewangi-ha-e-junoon aayi
lagaaya khanda-e-naaseh ne bakhiya jeb-o-daaman mein

नहीं है ज़ख़्म कोई बख़िये के दर-ख़ुर मिरे तन में
हुआ है तार-ए-अश्क-ए-यास रिश्ता चश्म-ए-सोज़न में

हुई है माने-ए-ज़ौक़-ए-तमाशा ख़ाना-वीरानी
कफ़-ए-सैलाब बाक़ी है ब-रंग-ए-पुम्बा रौज़न में

वदीअत-ख़ाना-ए-बेदाद-ए-काविश-हा-ए-मिज़गाँ हूँ
नगीन-ए-नाम-ए-शाहिद है मिरे हर क़तरा-ए-ख़ूँ तन में

बयाँ किस से हो ज़ुल्मत-गुस्तरी मेरे शबिस्ताँ की
शब-ए-मह हो जो रख दूँ पुम्बा दीवारों के रौज़न में

निकोहिश माना-ए-बे-रब्ती-ए-शोर-ए-जुनूँ आई
हुआ है ख़ंदा-ए-अहबाब बख़िया जेब-ओ-दामन में

हुए उस मेहर-वश के जल्वा-ए-तिमसाल के आगे
पर-अफ़्शाँ जौहर आईने में मिस्ल-ए-ज़र्रा रौज़न में

न जानूँ नेक हूँ या बद हूँ पर सोहबत-मुख़ालिफ़ है
जो गुल हूँ तो हूँ गुलख़न में जो ख़स हूँ तो हूँ गुलशन में

हज़ारों दिल दिये जोश-ए-जुनून-ए-इश्क़ ने मुझ को
सियह हो कर सुवैदा हो गया हर क़तरा-ए-ख़ूँ तन में

'असद' ज़िंदानी-ए-तासीर-ए-उल्फ़त-हा-ए-ख़ूबाँ हूँ
ख़म-ए-दस्त-ए-नवाज़िश हो गया है तौक़ गर्दन में

फ़ुज़ूँ की दोस्तों ने हिर्स-ए-क़ातिल ज़ौक़-ए-कुश्तन में
होए हैं बख़िया-हा-ए-ज़ख़्म जौहर तेग़-ए-दुश्मन में

तमाशा करदनी है लुत्फ़-ए-ज़ख़्म-ए-इंतिज़ार ऐ दिल
सुवैदा दाग़-ए-मर्हम मर्दुमुक है चश्म-ए-सोज़न में

दिल-ओ-दीन-ओ-ख़िरद ताराज-ए-नाज़-ए-जल्वा-पैराई
हुआ है जौहर-ए-आईना ख़ेल-ए-मोर ख़िर्मन में

निकोहिश माने-ए-दीवानगी-हा-ए-जुनूँ आई
लगाया ख़ंदा-ए-नासेह ने बख़िया जेब-ओ-दामन में

- Mirza Ghalib
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari