sataish-gar hai zaahid is qadar jis baagh-e-rizwaan ka | सताइश-गर है ज़ाहिद इस क़दर जिस बाग़-ए-रिज़वाँ का - Mirza Ghalib

sataish-gar hai zaahid is qadar jis baagh-e-rizwaan ka
vo ik guldasta hai ham be-khudoon ke taak-e-nisyan ka

bayaan kya kijie bedaad-e-kaavish-ha-e-mizgaan ka
ki har yak qatra-e-khoon daana hai tasbeeh-e-marjaan ka

na aayi satvat-e-qaatil bhi maane mere naalon ko
liya daanton mein jo tinka hua resha niyastaan ka

dikhaaunga tamasha di agar furqat zamaane ne
mera har daag-e-dil ik tukhm hai sarv-e-charaaghaan ka

kiya aaina-khaane ka vo naqsha tere jalwe ne
kare jo partav-e-khurshid aalam shabnamistaan ka

meri ta'aamir mein muzmar hai ik soorat kharaabi ki
hayoola barq-e-khirman ka hai khoon-e-garm dahkaan ka

ugaa hai ghar mein har soo sabza veeraani tamasha kar
madaar ab khodne par ghaas ke hai mere darbaan ka

khamoshi mein nihaan khoon-gashta laakhon aarzooen hain
charaagh-e-murda hoon main be-zabaan gor-e-ghareeban ka

hanooz ik partav-e-naqsh-e-khayaal-e-yaar baaki hai
dil-e-afsurda goya hujra hai yusuf ke zindaan ka

baghal mein gair ki aaj aap sote hain kahi warna
sabab kya khwaab mein aa kar tabassum-ha-e-pinhaan ka

nahin ma'aloom kis kis ka lahu paani hua hoga
qayamat hai sarishk-aalooda hona teri mizgaan ka

nazar mein hai hamaari jaada-e-raah-e-fana ghalib
ki ye sheeraza hai aalam ke ajzaa-e-pareshaan ka

सताइश-गर है ज़ाहिद इस क़दर जिस बाग़-ए-रिज़वाँ का
वो इक गुलदस्ता है हम बे-ख़ुदों के ताक़-ए-निस्याँ का

बयाँ क्या कीजिए बेदाद-ए-काविश-हा-ए-मिज़गाँ का
कि हर यक क़तरा-ए-ख़ूँ दाना है तस्बीह-ए-मरजाँ का

न आई सतवत-ए-क़ातिल भी माने मेरे नालों को
लिया दाँतों में जो तिनका हुआ रेशा नियस्ताँ का

दिखाऊँगा तमाशा दी अगर फ़ुर्सत ज़माने ने
मिरा हर दाग़-ए-दिल इक तुख़्म है सर्व-ए-चराग़ाँ का

किया आईना-ख़ाने का वो नक़्शा तेरे जल्वे ने
करे जो परतव-ए-ख़ुर्शीद आलम शबनमिस्ताँ का

मिरी ता'मीर में मुज़्मर है इक सूरत ख़राबी की
हयूला बर्क़-ए-ख़िर्मन का है ख़ून-ए-गर्म दहक़ाँ का

उगा है घर में हर सू सब्ज़ा वीरानी तमाशा कर
मदार अब खोदने पर घास के है मेरे दरबाँ का

ख़मोशी में निहाँ ख़ूँ-गश्ता लाखों आरज़ूएँ हैं
चराग़-ए-मुर्दा हूँ मैं बे-ज़बाँ गोर-ए-ग़रीबाँ का

हनूज़ इक परतव-ए-नक़्श-ए-ख़याल-ए-यार बाक़ी है
दिल-ए-अफ़सुर्दा गोया हुजरा है यूसुफ़ के ज़िंदाँ का

बग़ल में ग़ैर की आज आप सोते हैं कहीं वर्ना
सबब क्या ख़्वाब में आ कर तबस्सुम-हा-ए-पिन्हाँ का

नहीं मा'लूम किस किस का लहू पानी हुआ होगा
क़यामत है सरिश्क-आलूदा होना तेरी मिज़्गाँ का

नज़र में है हमारी जादा-ए-राह-ए-फ़ना 'ग़ालिब'
कि ये शीराज़ा है आलम के अज्ज़ा-ए-परेशाँ का

- Mirza Ghalib
0 Likes

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari