dard se mere hai tujh ko be-qaraari haaye haaye | दर्द से मेरे है तुझ को बे-क़रारी हाए हाए - Mirza Ghalib

dard se mere hai tujh ko be-qaraari haaye haaye
kya hui zalim tiri ghafalat-shiaari haaye haaye

tere dil mein gar na tha aashob-e-gham ka hausla
tu ne phir kyun ki thi meri gham-gusaari haaye haaye

kyun meri gham-khwaargi ka tujh ko aaya tha khayal
dushmani apni thi meri dost-daari haaye haaye

umr bhar ka tu ne paimaan-e-wafa baandha to kya
umr ko bhi to nahin hai paayedaari haaye haaye

zahar lagti hai mujhe aab-o-hawa-e-zindagi
ya'ni tujh se thi ise na-saazgaari haaye haaye

gul-fishaani-ha-e-naaz-e-jalwa ko kya ho gaya
khaak par hoti hai teri laala-kaari haaye haaye

sharm-e-ruswaai se ja chhupna naqaab-e-khaak mein
khatm hai ulfat ki tujh par parda-daari haaye haaye

khaak mein naamoos-e-paimaan-e-mohabbat mil gai
uth gai duniya se raah-o-rasm-e-yaari haaye haaye

haath hi tegh-aazmaa ka kaam se jaata raha
dil pe ik lagne na paaya zakhm-e-kaari haaye haaye

kis tarah kaate koi shab-ha-e-taar-e-barshigaal
hai nazar khoo-karda-e-akhtar-shumaari haaye haaye

gosh mahjoor-e-payaam o chashm-e-mahroom-e-jamaal
ek dil tis par ye na-ummeed-waari haaye haaye

ishq ne pakda na tha ghalib abhi vehshat ka rang
rah gaya tha dil mein jo kuchh zauq-e-khwaari haaye haaye

दर्द से मेरे है तुझ को बे-क़रारी हाए हाए
क्या हुई ज़ालिम तिरी ग़फ़लत-शिआरी हाए हाए

तेरे दिल में गर न था आशोब-ए-ग़म का हौसला
तू ने फिर क्यूँ की थी मेरी ग़म-गुसारी हाए हाए

क्यूँ मिरी ग़म-ख़्वार्गी का तुझ को आया था ख़याल
दुश्मनी अपनी थी मेरी दोस्त-दारी हाए हाए

उम्र भर का तू ने पैमान-ए-वफ़ा बाँधा तो क्या
उम्र को भी तो नहीं है पाएदारी हाए हाए

ज़हर लगती है मुझे आब-ओ-हवा-ए-ज़िंदगी
या'नी तुझ से थी इसे ना-साज़गारी हाए हाए

गुल-फ़िशानी-हा-ए-नाज़-ए-जल्वा को क्या हो गया
ख़ाक पर होती है तेरी लाला-कारी हाए हाए

शर्म-ए-रुस्वाई से जा छुपना नक़ाब-ए-ख़ाक में
ख़त्म है उल्फ़त की तुझ पर पर्दा-दारी हाए हाए

ख़ाक में नामूस-ए-पैमान-ए-मोहब्बत मिल गई
उठ गई दुनिया से राह-ओ-रस्म-ए-यारी हाए हाए

हाथ ही तेग़-आज़मा का काम से जाता रहा
दिल पे इक लगने न पाया ज़ख़्म-ए-कारी हाए हाए

किस तरह काटे कोई शब-हा-ए-तार-ए-बर्शिगाल
है नज़र ख़ू-कर्दा-ए-अख़्तर-शुमारी हाए हाए

गोश महजूर-ए-पयाम ओ चश्म-ए-महरूम-ए-जमाल
एक दिल तिस पर ये ना-उम्मीद-वारी हाए हाए

इश्क़ ने पकड़ा न था 'ग़ालिब' अभी वहशत का रंग
रह गया था दिल में जो कुछ ज़ौक़-ए-ख़्वारी हाए हाए

- Mirza Ghalib
1 Like

Nazar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Nazar Shayari Shayari