haasil se haath dho baith ai aarzoo-khiraami | हासिल से हाथ धो बैठ ऐ आरज़ू-ख़िरामी - Mirza Ghalib

haasil se haath dho baith ai aarzoo-khiraami
dil josh-e-giryaa mein hai doobi hui asaami

us sham'a ki tarah se jis ko koi bujha de
main bhi jale-huon mein hoon daag-e-na-tamaami

karte ho shikwa kis ka tum aur bewafaai
sar peetate hain apna ham aur nek-naami

sad-rang-e-gul katarna dar-parda qatl karna
tegh-e-ada nahin hai paaband-e-be-niyaami

taraf-e-sukhan nahin hai mujh se khuda-na-karda
hai nama-bar ko us se daawa-e-ham-kalaami

taqat fasaana-e-baad andesha shola-e-ijaad
ai gham hunooz aatish ai dil hunooz khaami

har chand umr guzri aazurdagi mein lekin
hai sharh-e-shauq ko bhi jun shikwa naa-tamaami

hai yaas mein asad ko saaqi se bhi faraaghat
dariya se khushk guzre maston ki tishna-kaami

हासिल से हाथ धो बैठ ऐ आरज़ू-ख़िरामी
दिल जोश-ए-गिर्या में है डूबी हुई असामी

उस शम्अ' की तरह से जिस को कोई बुझा दे
मैं भी जले-हुओं में हूँ दाग़-ए-ना-तमामी

करते हो शिकवा किस का तुम और बेवफ़ाई
सर पीटते हैं अपना हम और नेक-नामी

सद-रंग-ए-गुल कतरना दर-पर्दा क़त्ल करना
तेग़-ए-अदा नहीं है पाबंद-ए-बे-नियामी

तर्फ़-ए-सुख़न नहीं है मुझ से ख़ुदा-न-कर्दा
है नामा-बर को उस से दावा-ए-हम-कलामी

ताक़त फ़साना-ए-बाद अंदेशा शोला-ईजाद
ऐ ग़म हुनूज़ आतिश ऐ दिल हुनूज़ ख़ामी

हर चंद उम्र गुज़री आज़ुर्दगी में लेकिन
है शरह-ए-शौक़ को भी जूँ शिकवा ना-तमामी

है यास में 'असद' को साक़ी से भी फ़राग़त
दरिया से ख़ुश्क गुज़रे मस्तों की तिश्ना-कामी

- Mirza Ghalib
0 Likes

Qatil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Qatil Shayari Shayari