ek pal mein zindagi bhar ki udaasi de gaya | एक पल में ज़िंदगी भर की उदासी दे गया - Mohsin Naqvi

ek pal mein zindagi bhar ki udaasi de gaya
vo juda hote hue kuchh phool baasi de gaya

noch kar shaakhon ke tan se khushk patton ka libaas
zard mausam baanjh-rut ko be-libaasi de gaya

subh ke taare meri pehli dua tere liye
tu dil-e-be-sabr ko taskin zara si de gaya

log malbon mein dabey saaye bhi dafnaane lage
zalzala ahl-e-zameen ko bad-havaasi de gaya

tund jhonke ki ragon mein ghol kar apna dhuaan
ik diya andhi hawa ko khud-shanasi de gaya

le gaya mohsin vo mujh se abr banta aasmaan
us ke badle mein zameen sadiyon ki pyaasi de gaya

एक पल में ज़िंदगी भर की उदासी दे गया
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया

नोच कर शाख़ों के तन से ख़ुश्क पत्तों का लिबास
ज़र्द मौसम बाँझ-रुत को बे-लिबासी दे गया

सुब्ह के तारे मिरी पहली दुआ तेरे लिए
तू दिल-ए-बे-सब्र को तस्कीं ज़रा सी दे गया

लोग मलबों में दबे साए भी दफ़नाने लगे
ज़लज़ला अहल-ए-ज़मीं को बद-हवासी दे गया

तुंद झोंके की रगों में घोल कर अपना धुआँ
इक दिया अंधी हवा को ख़ुद-शनासी दे गया

ले गया 'मोहसिन' वो मुझ से अब्र बनता आसमाँ
उस के बदले में ज़मीं सदियों की प्यासी दे गया

- Mohsin Naqvi
1 Like

Kashmir Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mohsin Naqvi

As you were reading Shayari by Mohsin Naqvi

Similar Writers

our suggestion based on Mohsin Naqvi

Similar Moods

As you were reading Kashmir Shayari Shayari