thaani thi dil mein ab na milenge kisi se hum | ठानी थी दिल में अब न मिलेंगे किसी से हम - Momin Khan Momin

thaani thi dil mein ab na milenge kisi se hum
par kya karein ki ho gaye naachaar jee se hum

hansate jo dekhte hain kisi ko kisi se hum
munh dekh dekh rote hain kis bekasi se hum

hum se na bolo tum ise kya kahte hain bhala
insaaf kijeye poochte hain aap hi se hum

be-zaar jaan se jo na hote to maangte
shaahid shikaayaton pe tiri muddai se hum

us koo mein ja marengay madad ai hujoom-e-shauq
aaj aur zor karte hain be-taaqati se hum

sahab ne is ghulaam ko azaad kar diya
lo bandagi ki chhoot gaye bandagi se hum

in na-taavaniyon pe bhi the khaar-e-raah-e-ghair
hoonai nikale jaate na us ki gali se hum

munh dekhne se pehle bhi kis din vo saaf tha
be-wajah kyun ghubaar rakhen aarsi se hum

hai chhed ikhtilaat bhi ghairoon ke saamne
hansne ke badle royen na kyun gudgudi se hum

vehshat hai ishq-e-parda-nasheen mein dam-e-buka
munh dhaankte hain parda-e-chashm-e-paree se hum

kya dil ko le gaya koi begaana-aashnaa
kyun apne jee ko lagte hain kuch ajnabi se hum

le naam aarzoo ka to dil ko nikaal len
mumin na hon jo rabt rakhen bid'aati se hum

ठानी थी दिल में अब न मिलेंगे किसी से हम
पर क्या करें कि हो गए नाचार जी से हम

हंसते जो देखते हैं किसी को किसी से हम
मुंह देख देख रोते हैं किस बेकसी से हम

हम से न बोलो तुम इसे क्या कहते हैं भला
इंसाफ़ कीजे पूछते हैं आप ही से हम

बे-ज़ार जान से जो न होते तो मांगते
शाहिद शिकायतों पे तिरी मुद्दई से हम

उस कू में जा मरेंगे मदद ऐ हुजूम-ए-शौक़
आज और ज़ोर करते हैं बे-ताक़ती से हम

साहब ने इस ग़ुलाम को आज़ाद कर दिया
लो बंदगी कि छूट गए बंदगी से हम

इन ना-तावनियों पे भी थे ख़ार-ए-राह-ए-ग़ैर
क्यूंकर निकाले जाते न उस की गली से हम

मुंह देखने से पहले भी किस दिन वो साफ़ था
बे-वजह क्यूं ग़ुबार रखें आरसी से हम

है छेड़ इख़्तिलात भी ग़ैरों के सामने
हँसने के बदले रोएँ न क्यूं गुदगुदी से हम

वहशत है इश्क़-ए-पर्दा-नशीं में दम-ए-बुका
मुंह ढांकते हैं पर्दा-ए-चश्म-ए-परी से हम

क्या दिल को ले गया कोई बेगाना-आश्ना
क्यूँ अपने जी को लगते हैं कुछ अजनबी से हम

ले नाम आरज़ू का तो दिल को निकाल लें
'मोमिन' न हों जो रब्त रखें बिदअती से हम

- Momin Khan Momin
1 Like

Justice Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Momin Khan Momin

As you were reading Shayari by Momin Khan Momin

Similar Writers

our suggestion based on Momin Khan Momin

Similar Moods

As you were reading Justice Shayari Shayari