masarraton ke khazaane hi kam nikalte hain | मसर्रतों के ख़ज़ाने ही कम निकलते हैं - Munawwar Rana

masarraton ke khazaane hi kam nikalte hain
kisi bhi seene ko kholo to gham nikalte hain

hamaare jism ke andar ki jheel sookh gai
isee liye to ab aansu bhi kam nikalte hain

ye karbala ki zameen hai ise salaam karo
yahan zameen se patthar bhi nam nikalte hain

yahi hai zid to hatheli pe apni jaan liye
ameer-e-shahr se kah do ki ham nikalte hain

kahaan har ek ko milte hain chaahne waale
naseeb waalon ke gesu mein kham nikalte hain

jahaan se ham ko guzarne mein sharm aati hai
usi gali se kai mohtaram nikalte hain

tumhi batao ki main khilkhila ke kaise hansoon
ki roz khaana-e-dil se alam nikalte hain

tumhaare ahd-e-hukoomat ka saanehaa ye hai
ki ab to log gharo se bhi kam nikalte hain

मसर्रतों के ख़ज़ाने ही कम निकलते हैं
किसी भी सीने को खोलो तो ग़म निकलते हैं

हमारे जिस्म के अंदर की झील सूख गई
इसी लिए तो अब आँसू भी कम निकलते हैं

ये कर्बला की ज़मीं है इसे सलाम करो
यहाँ ज़मीन से पत्थर भी नम निकलते हैं

यही है ज़िद तो हथेली पे अपनी जान लिए
अमीर-ए-शहर से कह दो कि हम निकलते हैं

कहाँ हर एक को मिलते हैं चाहने वाले
नसीब वालों के गेसू में ख़म निकलते हैं

जहाँ से हम को गुज़रने में शर्म आती है
उसी गली से कई मोहतरम निकलते हैं

तुम्ही बताओ कि मैं खिलखिला के कैसे हँसूँ
कि रोज़ ख़ाना-ए-दिल से अलम निकलते हैं

तुम्हारे अहद-ए-हुकूमत का सानेहा ये है
कि अब तो लोग घरों से भी कम निकलते हैं

- Munawwar Rana
1 Like

Motivational Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Motivational Shayari Shayari