khwaab us ke hain jo chura le jaaye | ख़्वाब उस के हैं जो चुरा ले जाए - Rasa Chughtai

khwaab us ke hain jo chura le jaaye
neend us ki hai jo uda le jaaye

zulf us ki hai jo use choo le
baat us ki hai jo bana le jaaye

teg us ki hai shaakh-e-gul us ki
jo use kheenchta hua le jaaye

us se kehna ki kya nahin us paas
phir bhi darvesh ki dua le jaaye

zakham ho to koi duhaai de
teer ho to koi utha le jaaye

qarz ho to koi ada kar de
haath ho to koi chhuda le jaaye

lau diye ki nigaah mein rakhna
jaane kis samt raasta le jaaye

dil mein aabaad hain jo sadiyon se
un buton ko kahaan khuda le jaaye

kab na jaane ubal pade chashma
kab ye sehra mujhe baha le jaaye

khwaab aisa ki dekhte rahiye
yaad aisi ki hafiza le jaaye

main ghareeb-ud-dayaar mera kya
mauj le jaaye ya hawa le jaaye

khaak hona hi jab muqaddar hai
ab jahaan bakht-e-na-rasa le jaaye

ख़्वाब उस के हैं जो चुरा ले जाए
नींद उस की है जो उड़ा ले जाए

ज़ुल्फ़ उस की है जो उसे छू ले
बात उस की है जो बना ले जाए

तेग़ उस की है शाख़-ए-गुल उस की
जो उसे खींचता हुआ ले जाए

उस से कहना कि क्या नहीं उस पास
फिर भी दरवेश की दुआ ले जाए

ज़ख़्म हो तो कोई दुहाई दे
तीर हो तो कोई उठा ले जाए

क़र्ज़ हो तो कोई अदा कर दे
हाथ हो तो कोई छुड़ा ले जाए

लौ दिए की निगाह में रखना
जाने किस सम्त रास्ता ले जाए

दिल में आबाद हैं जो सदियों से
उन बुतों को कहाँ ख़ुदा ले जाए

कब न जाने उबल पड़े चश्मा
कब ये सहरा मुझे बहा ले जाए

ख़्वाब ऐसा कि देखते रहिए
याद ऐसी कि हाफ़िज़ा ले जाए

मैं ग़रीब-उद-दयार मेरा क्या
मौज ले जाए या हवा ले जाए

ख़ाक होना ही जब मुक़द्दर है
अब जहाँ बख़्त-ए-ना-रसा ले जाए

- Rasa Chughtai
1 Like

Jalwa Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Rasa Chughtai

Similar Moods

As you were reading Jalwa Shayari Shayari