chhora tha nandgaanv ka hardil-dulaariyaan | छोरा था नंदगाँव का हरदिल-दुलारियाँ - Sanjay Chaturvedi

chhora tha nandgaanv ka hardil-dulaariyaan
kar devai doodh-chaach ki chori-chakaariyaan

tanna riya takht pai baith kai tu khaamkhaan
jamna ki ret kaayekoo tune bisaariyaan

aisi hain kaamyaab apun ki safariyaan
sab hasrataan khalaas salaasat ki maariyaan

hamne jo mauj li hai farishton ko na mile
jannat mein kahaan rail ki chhuk-chhuk savaariyaan

छोरा था नंदगाँव का हरदिल-दुलारियाँ
कर देवै दूध-छाछ की चोरी-चकारियाँ

टन्ना रिया तख़त पै बैठ कै तू खामखाँ
जमना की रेत काएकू तूने बिसारियाँ

ऐसी हैं कामयाब अपुन की सफ़ारियाँ
सब हसरताँ ख़लास सलासत की मारियाँ

हमने जो मौज ली है फ़रिश्तों को ना मिले
जन्नत में कहाँ रेल की छुक-छुक सवारियाँ

- Sanjay Chaturvedi
0 Likes

Kashmir Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Sanjay Chaturvedi

Similar Moods

As you were reading Kashmir Shayari Shayari