aisa nahin ki maine mohabbat nahin kari | ऐसा नहीं कि मैंने मोहब्बत नहीं करी - Shaad Imran

aisa nahin ki maine mohabbat nahin kari
izhaar karne hi ki bas himmat nahin kari

ye bhi sitam ghazal ka koi kam to nahin hai
isne hamaari jaun si haalat nahin kari

aisa bhi koi hai ki jisne jaun padha ho
aur us ke jaise gham ki hasrat nahin kari

shaitaan banaati to hai iblis ko ye ik baat
usne khuda ki hukm ki izzat nahin kari

imraan jaane kitnon ke chakkar mein pada hai
isne kisi ik husn ki chaahat nahin kari

ऐसा नहीं कि मैंने मोहब्बत नहीं करी
इज़हार करने ही कि बस हिम्मत नहीं करी

ये भी सितम ग़ज़ल का कोई कम तो नहीं है
इसने हमारी 'जौन' सी हालत नहीं करी

ऐसा भी कोई है कि जिसने 'जौन' पढ़ा हो
और उस के जैसे ग़म की हसरत नहीं करी

शैतान बनाती तो है इब्लिस को ये इक बात
उसने ख़ुदा की हुक्म की इज़्ज़त नहीं करी

'इमरान' जाने कितनों के चक्कर में पड़ा है
इसने किसी इक हुस्न कि चाहत नहीं करी

- Shaad Imran
7 Likes

Hasrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shaad Imran

As you were reading Shayari by Shaad Imran

Similar Writers

our suggestion based on Shaad Imran

Similar Moods

As you were reading Hasrat Shayari Shayari