kya khabar us raushni mein aur kya raushan hua | क्या ख़बर उस रौशनी में और क्या रौशन हुआ - Tehzeeb Hafi

kya khabar us raushni mein aur kya raushan hua
jab vo in haathon se pehli martaba raushan hua

vo mere seene se lagkar jisko roee kaun tha
kiske bujhne pe main aaj uski jagah raushan hua

vaise main in raaston aur taakhchon ka tha nahin
phir bhi tune jis jagah par rakh diya raushan hua

mere jaane par sabhi roye bahut roye magar
ik diya meri tavqko se siva raushan hua

tere apne teri kirnon ko tarsate hai yahan
tu ye kin galiyon mein kin logon mein ja raushan hua

maine poocha tha ki mujh jaisa bhi koi aur hai
door jungle mein kahi ik maqbara raushan hua

jaane kaisi aag mein vo jal raha hai in dinon
usne munh ponchha to mera toliyaa raushan hua

koi uski raushni ke shar se kab mahfooz hai
meri aankhen bujh gai aur koylaa raushan hua

क्या ख़बर उस रौशनी में और क्या रौशन हुआ
जब वो इन हाथों से पहली मर्तबा रौशन हुआ

वो मेरे सीने से लगकर जिसको रोई कौन था
किसके बुझने पे मैं आज उसकी जगह रौशन हुआ

वैसे मैं इन रास्तों और ताख़चों का था नहीं
फिर भी तूने जिस जगह पर रख दिया रौशन हुआ

मेरे जाने पर सभी रोए बहुत रोए मगर
इक दिया मेरी तवक़्क़ो से सिवा रौशन हुआ

तेरे अपने तेरी किरनों को तरसते है यहाँ
तू ये किन गलियों में किन लोगों में जा रौशन हुआ

मैंने पूछा था कि मुझ जैसा भी कोई और है
दूर जंगल में कहीं इक मकबरा रौशन हुआ

जाने कैसी आग में वो जल रहा है इन दिनों
उसने मुँह पोंछा तो मेरा तौलिया रौशन हुआ

कोई उसकी रौशनी के शर से कब महफ़ूज़ है
मेरी आँखें बुझ गई और कोयला रौशन हुआ

- Tehzeeb Hafi
39 Likes

Qabr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Qabr Shayari Shayari