zara si chaanv kamaane mein umr beet gai | ज़रा सी छाँव कमाने में उम्र बीत गई - Varun Anand

zara si chaanv kamaane mein umr beet gai
darakht khud ko banaane mein umr beet gai

fuzool kah diya usne hamaari vehshat ko
vo fan ki jisko kamaane mein umr beet gai

vo ek rabt jo tujhse hamaara tha hi nahin
vo ek rabt bachaane mein umr beet gai

zaroori kaam koi waqt pe kiya hi nahin
bas apni mauj udaane mein umr beet gai

junoon-junoon mein chale aaye dasht mein ye log
par inki laut ke jaane mein umr beet gai

bas ek baar likha dil pe yun hi uska naam
phir usko dil se mitaane mein umr beet gai

nadi se ishq tha mallaah ko p kah na saka
aur uski naav chalaane mein umr beet gai

ab aise shakhs ko paana to khwaab hi
samjho ki jisko haath lagaane mein umr beet gai

ज़रा सी छाँव कमाने में उम्र बीत गई
दरख़्त ख़ुद को बनाने में उम्र बीत गई

फुज़ूल कह दिया उसने हमारी वहशत को
वो फ़न कि जिसको कमाने में उम्र बीत गई

वो एक रब्त जो तुझसे हमारा था ही नहीं
वो एक रब्त बचाने में उम्र बीत गई

ज़रूरी काम कोई वक़्त पे किया ही नहीं
बस अपनी मौज उड़ाने में उम्र बीत गई

जुनूँ-जुनूँ में चले आए दश्त में ये लोग
पर इनकी लौट के जाने में उम्र बीत गई

बस एक बार लिखा दिल पे यूँ ही उसका नाम
फिर उसको दिल से मिटाने में उम्र बीत गई

नदी से इश्क़ था मल्लाह को प कह न सका
और उसकी नाव चलाने में उम्र बीत गई

अब ऐसे शख़्स को पाना तो ख़्वाब ही
समझो कि जिसको हाथ लगाने में उम्र बीत गई

- Varun Anand
10 Likes

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Varun Anand

As you were reading Shayari by Varun Anand

Similar Writers

our suggestion based on Varun Anand

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari