saara samaan liye ghar se nikal aayi hai | सारा सामान लिए घर से निकल आई है - Rishabh Sharma

saara samaan liye ghar se nikal aayi hai
phone par phone lagati hui tanhaai hai

yaad aane lage hain log mujhe guzre hue
dost kya tune meri jhoothi qasam khaai hai

apni duniya mein magan rahna ise kahte hain
ik plaster jhadi deewaar pe jo kaai hai

baat jo dil pe lagi hai vo koi baat nahin
sar ke oopar se gai baat mein gehraai hai

uske pahluu mein bhala sochta hoon kya kya main
khwaab mein aa gaya hoon neend nahin aayi hai

सारा सामान लिए घर से निकल आई है
फ़ोन पर फ़ोन लगाती हुई तन्हाई है

याद आने लगे हैं लोग मुझे गुज़रे हुए
दोस्त क्या तूने मेरी झूठी क़सम खाई है

अपनी दुनिया में मगन रहना इसे कहते हैं
इक पलस्तर झड़ी दीवार पे जो काई है

बात जो दिल पे लगी है वो कोई बात नहीं
सर के ऊपर से गई बात में गहराई है

उसके पहलू में भला सोचता हूँ क्या क्या मैं
ख़्वाब में आ गया हूँ नींद नहीं आई है

- Rishabh Sharma
14 Likes

Tanhai Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rishabh Sharma

As you were reading Shayari by Rishabh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Rishabh Sharma

Similar Moods

As you were reading Tanhai Shayari Shayari