lubhaata hai agarche husn-e-dariya dar raha hoon main | लुभाता है अगरचे हुस्न-ए-दरिया डर रहा हूँ मैं - Ahmad Mushtaq

lubhaata hai agarche husn-e-dariya dar raha hoon main
sabab ye hai ki ik muddat kinaare par raha hoon main

ye jhonke jin se dil mein taazgi aankhon mein thandak hai
inhi jhonkon se murjhaya hua shab bhar raha hoon main

tire aane ka din hai tere raaste mein bichaane ko
chamakti dhoop mein saaye ikatthe kar raha hoon main

koi kamra hai jis ke taq mein ik sham'a jaltee hai
andheri raat hai aur saans lete dar raha hoon main

mujhe ma'aloom hai ahl-e-wafa par kya guzarti hai
samajh kar soch kar tujh se mohabbat kar raha hoon main

लुभाता है अगरचे हुस्न-ए-दरिया डर रहा हूँ मैं
सबब ये है कि इक मुद्दत किनारे पर रहा हूँ मैं

ये झोंके जिन से दिल में ताज़गी आँखों में ठंडक है
इन्ही झोंकों से मुरझाया हुआ शब भर रहा हूँ मैं

तिरे आने का दिन है तेरे रस्ते में बिछाने को
चमकती धूप में साए इकट्ठे कर रहा हूँ मैं

कोई कमरा है जिस के ताक़ में इक शम्अ' जलती है
अँधेरी रात है और साँस लेते डर रहा हूँ मैं

मुझे मा'लूम है अहल-ए-वफ़ा पर क्या गुज़रती है
समझ कर सोच कर तुझ से मोहब्बत कर रहा हूँ मैं

- Ahmad Mushtaq
0 Likes

Wahshat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Mushtaq

As you were reading Shayari by Ahmad Mushtaq

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Mushtaq

Similar Moods

As you were reading Wahshat Shayari Shayari