tum aaye ho tumhein bhi aazma kar dekh leta hoon | तुम आए हो तुम्हें भी आज़मा कर देख लेता हूँ - Ahmad Mushtaq

tum aaye ho tumhein bhi aazma kar dekh leta hoon
tumhaare saath bhi kuchh door ja kar dekh leta hoon

hawaaein jin ki andhi khidkiyon par sar patakti hain
main un kamron mein phir shamaein jala kar dekh leta hoon

ajab kya is qareene se koi soorat nikal aaye
tiri baaton ko khwaabon se mila kar dekh leta hoon

sehar-e-dam kirchiyaan toote hue khwaabon ki milti hain
to bistar jhaad kar chadar hata kar dekh leta hoon

bahut dil ko dukhaata hai kabhi jab dard-e-mahjoori
tiri yaadon ki jaanib muskuraa kar dekh leta hoon

uda kar rang kuchh honton se kuchh aankhon se kuchh dil se
gaye lamhon ko tasveerein bana kar dekh leta hoon

nahin ho tum bhi vo ab mujh se yaaro kya chupaoge
hawa ki samt ko mitti uda kar dekh leta hoon

suna hai be-niyaazi hi ilaaj-e-na-umeedi hai
ye nuskha bhi koi din aazma kar dekh leta hoon

mohabbat mar gai mushtaaq lekin tum na maanoge
main ye afwaah bhi tum ko suna kar dekh leta hoon

तुम आए हो तुम्हें भी आज़मा कर देख लेता हूँ
तुम्हारे साथ भी कुछ दूर जा कर देख लेता हूँ

हवाएँ जिन की अंधी खिड़कियों पर सर पटकती हैं
मैं उन कमरों में फिर शमएँ जला कर देख लेता हूँ

अजब क्या इस क़रीने से कोई सूरत निकल आए
तिरी बातों को ख़्वाबों से मिला कर देख लेता हूँ

सहर-ए-दम किर्चियाँ टूटे हुए ख़्वाबों की मिलती हैं
तो बिस्तर झाड़ कर चादर हटा कर देख लेता हूँ

बहुत दिल को दुखाता है कभी जब दर्द-ए-महजूरी
तिरी यादों की जानिब मुस्कुरा कर देख लेता हूँ

उड़ा कर रंग कुछ होंटों से कुछ आँखों से कुछ दिल से
गए लम्हों को तस्वीरें बना कर देख लेता हूँ

नहीं हो तुम भी वो अब मुझ से यारो क्या छुपाओगे
हवा की सम्त को मिट्टी उड़ा कर देख लेता हूँ

सुना है बे-नियाज़ी ही इलाज-ए-ना-उमीदी है
ये नुस्ख़ा भी कोई दिन आज़मा कर देख लेता हूँ

मोहब्बत मर गई 'मुश्ताक़' लेकिन तुम न मानोगे
मैं ये अफ़्वाह भी तुम को सुना कर देख लेता हूँ

- Ahmad Mushtaq
1 Like

Ishaara Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Mushtaq

As you were reading Shayari by Ahmad Mushtaq

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Mushtaq

Similar Moods

As you were reading Ishaara Shayari Shayari