ab to shehron se khabar aati hai deewaanon ki | अब तो शहरों से ख़बर आती है दीवानों की - Ahmad Nadeem Qasmi

ab to shehron se khabar aati hai deewaanon ki
koi pehchaan hi baaki nahin veeraanon ki

apni poshaak se hushyaar ki khuddaam-e-qadeem
dhajjiyaan maangte hain apne garebaanon ki

san'aatein phailti jaati hain magar is ke saath
sarhadein tootti jaati hain gulistaanon ki

dil mein vo zakham khile hain ki chaman kya shay hai
ghar mein baaraat si utri hui gul-daano ki

un ko kya fikr ki main paar laga ya dooba
bahs karte rahe saahil pe jo toofaanon ki

teri rahmat to musallam hai magar ye to bata
kaun bijli ko khabar deta hai kaashaanon ki

maqabre bante hain zindon ke makaanon se buland
kis qadar auj pe takreem hai insaano ki

ek ik yaad ke haathon pe charaagon bhare tasht
kaaba-e-dil ki fazaa hai ki sanam-khaanon ki

अब तो शहरों से ख़बर आती है दीवानों की
कोई पहचान ही बाक़ी नहीं वीरानों की

अपनी पोशाक से हुश्यार कि ख़ुद्दाम-ए-क़दीम
धज्जियाँ माँगते हैं अपने गरेबानों की

सनअतें फैलती जाती हैं मगर इस के साथ
सरहदें टूटती जाती हैं गुलिस्तानों की

दिल में वो ज़ख़्म खिले हैं कि चमन क्या शय है
घर में बारात सी उतरी हुई गुल-दानों की

उन को क्या फ़िक्र कि मैं पार लगा या डूबा
बहस करते रहे साहिल पे जो तूफ़ानों की

तेरी रहमत तो मुसल्लम है मगर ये तो बता
कौन बिजली को ख़बर देता है काशानों की

मक़बरे बनते हैं ज़िंदों के मकानों से बुलंद
किस क़दर औज पे तकरीम है इंसानों की

एक इक याद के हाथों पे चराग़ों भरे तश्त
काबा-ए-दिल की फ़ज़ा है कि सनम-ख़ानों की

- Ahmad Nadeem Qasmi
0 Likes

Promise Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Nadeem Qasmi

As you were reading Shayari by Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Moods

As you were reading Promise Shayari Shayari