kahaan le jaaun dil dono jahaan mein iski mushkil hai | कहाँ ले जाऊँ दिल दोनों जहाँ में इसकी मुश्क़िल है - Akbar Allahabadi

kahaan le jaaun dil dono jahaan mein iski mushkil hai
yahan pariyon ka majma hai wahan huroon ki mehfil hai

ilaahi kaisi-kaisi sooraten tune banaai hain
har soorat kaleje se laga lene ke qaabil hai

ye dil lete hi sheeshe ki tarah patthar pe de maara
main kehta rah gaya zalim mera dil hai mera dil hai

jo dekha aks aaine mein apna bole jhunjhlaakar
are tu kaun hai hat saamne se kyun muqaabil hai

hazaaron dil masal kar paavon se jhunjhla ke farmaaya
lo pehchaano tumhaara in dilon mein kaun sa dil hai

कहाँ ले जाऊँ दिल दोनों जहाँ में इसकी मुश्क़िल है
यहाँ परियों का मजमा है, वहाँ हूरों की महफ़िल है

इलाही कैसी-कैसी सूरतें तूने बनाई हैं
हर सूरत कलेजे से लगा लेने के क़ाबिल है

ये दिल लेते ही शीशे की तरह पत्थर पे दे मारा
मैं कहता रह गया ज़ालिम मेरा दिल है, मेरा दिल है

जो देखा अक्स आईने में अपना बोले झुँझलाकर
अरे तू कौन है, हट सामने से क्यों मुक़ाबिल है

हज़ारों दिल मसल कर पाँवों से झुँझला के फ़रमाया
लो पहचानो तुम्हारा इन दिलों में कौन सा दिल है

- Akbar Allahabadi
2 Likes

Tasweer Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akbar Allahabadi

As you were reading Shayari by Akbar Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Akbar Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Tasweer Shayari Shayari