guzarna hai jee se guzar jaaie | गुज़रना है जी से गुज़र जाइए - Akhtar Saeed Khan

guzarna hai jee se guzar jaaie
liye deeda-e-tar kidhar jaaie

khule dil se milta nahin ab koi
use bhoolne kis ke ghar jaaie

subuk-rau hai mauj-e-gham-e-dil abhi
abhi waqt hai paar utar jaaie

ult to diya parda-e-shab magar
nahin soojhtaa ab kidhar jaaie

ilaaj-e-gham-e-dil na sehra na ghar
wahi huu ka aalam jidhar jaaie

isee mod par ham hue the juda
mile hain to dam bhar thehar jaaie

kathin hain bahut hijr ke marhale
taqaza hai hans kar guzar jaaie

ab us dar ki akhtar hawa aur hai
liye apne shaam-o-sehar jaaie

गुज़रना है जी से गुज़र जाइए
लिए दीदा-ए-तर किधर जाइए

खुले दिल से मिलता नहीं अब कोई
उसे भूलने किस के घर जाइए

सुबुक-रौ है मौज-ए-ग़म-ए-दिल अभी
अभी वक़्त है पार उतर जाइए

उलट तो दिया पर्दा-ए-शब मगर
नहीं सूझता अब किधर जाइए

इलाज-ए-ग़म-ए-दिल न सहरा न घर
वही हू का आलम जिधर जाइए

इसी मोड़ पर हम हुए थे जुदा
मिले हैं तो दम भर ठहर जाइए

कठिन हैं बहुत हिज्र के मरहले
तक़ाज़ा है हँस कर गुज़र जाइए

अब उस दर की 'अख़्तर' हवा और है
लिए अपने शाम-ओ-सहर जाइए

- Akhtar Saeed Khan
0 Likes

Hijrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Saeed Khan

As you were reading Shayari by Akhtar Saeed Khan

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Saeed Khan

Similar Moods

As you were reading Hijrat Shayari Shayari