yaad aaye hain ahad-e-junoon ke khoye hue dildaar bahut | याद आए हैं अहद-ए-जुनूँ के खोए हुए दिलदार बहुत - Ali Sardar Jafri

yaad aaye hain ahad-e-junoon ke khoye hue dildaar bahut
un se door basaai basti jin se hamein tha pyaar bahut

ek ik kar ke khili theen kaliyaan ek ik kar ke phool gaye
ek ik kar ke ham se bichhde baag-e-jahaan mein yaar bahut

husn ke jalwe aam hain lekin zauq-e-nazara aam nahin
ishq bahut mushkil hai lekin ishq ke da'wedaar bahut

zakham kaho ya khilti kaliyaan haath magar guldasta hai
baagh-e-wafaa se ham ne chune hain phool bahut aur khaar bahut

jo bhi mila hai le aaye hain daag-e-dil ya daag-e-jigar
waadi waadi manzil manzil bhatke hain sardaar bahut

याद आए हैं अहद-ए-जुनूँ के खोए हुए दिलदार बहुत
उन से दूर बसाई बस्ती जिन से हमें था प्यार बहुत

एक इक कर के खिली थीं कलियाँ एक इक कर के फूल गए
एक इक कर के हम से बिछड़े बाग़-ए-जहाँ में यार बहुत

हुस्न के जल्वे आम हैं लेकिन ज़ौक़-ए-नज़ारा आम नहीं
इश्क़ बहुत मुश्किल है लेकिन इश्क़ के दा'वेदार बहुत

ज़ख़्म कहो या खिलती कलियाँ हाथ मगर गुलदस्ता है
बाग़-ए-वफ़ा से हम ने चुने हैं फूल बहुत और ख़ार बहुत

जो भी मिला है ले आए हैं दाग़-ए-दिल या दाग़-ए-जिगर
वादी वादी मंज़िल मंज़िल भटके हैं 'सरदार' बहुत

- Ali Sardar Jafri
0 Likes

Mehboob Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Sardar Jafri

As you were reading Shayari by Ali Sardar Jafri

Similar Writers

our suggestion based on Ali Sardar Jafri

Similar Moods

As you were reading Mehboob Shayari Shayari