yaar to uske saalgirah par kya kya tohfe laaye hain | यार तो उसके सालगिराह पर क्या क्या तोहफें लाए हैं - Ali Zaryoun

yaar to uske saalgirah par kya kya tohfe laaye hain
aur idhar hamne uski tasveer ko sher sunaayein hain

aap se badhkar kaun samajh saka hai rang aur khushboo ko
aapse koi bahs nahin hai aap uske hamsaayein hai

kisi bahaane se uski naarazi khatm to karne thi
uske pasandeeda shayar ke sher use bhejavai hain

यार तो उसके सालगिराह पर क्या क्या तोहफें लाए हैं
और इधर हमने उसकी तस्वीर को शेर सुनाएं हैं

आप से बढ़कर कौन समझ सकता है रंग और खुशबू को
आपसे कोई बहस नहीं है आप उसके हमसाएं है

किसी बहाने से उसकी नाराजी खत्म तो करनी थी
उसके पसंदीदा शायर के शेर उसे भिजवाए हैं

- Ali Zaryoun
14 Likes

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Zaryoun

As you were reading Shayari by Ali Zaryoun

Similar Writers

our suggestion based on Ali Zaryoun

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari