jang jitni ho sake dushwaar honi chahiye | जंग जितनी हो सके दुश्वार होनी चाहिए - Charagh Sharma

jang jitni ho sake dushwaar honi chahiye
jeet haasil ho to laziz-daar honi chahiye

ek aashiq kal salaamat shehar mein dekha gaya
ye khabar to surkhi-e-akhbaar honi chahiye

kah rahi hai aaj-kal ghazlein kisi ke ishq mein
vo ki jo khud zeenat-e-ashaar honi chahiye

ishq dono ne kiya tha khud-kushi bas main karoon
vo bhi marne ke liye taiyyaar honi chahiye

dil ki nadaani hi bas kaafi nahin hai ishq mein
aql bhi thodi bahut beemaar honi chahiye

pyaar hai to haath us ka thaam apne haath mein
jang hai to haath mein talwaar honi chahiye

जंग जितनी हो सके दुश्वार होनी चाहिए
जीत हासिल हो तो लज़्ज़त-दार होनी चाहिए

एक आशिक़ कल सलामत शहर में देखा गया
ये ख़बर तो सुर्ख़ी-ए-अख़बार होनी चाहिए

कह रही है आज-कल ग़ज़लें किसी के इश्क़ में
वो कि जो ख़ुद ज़ीनत-ए-अशआर होनी चाहिए

इश्क़ दोनों ने किया था ख़ुद-कुशी बस मैं करूँ
वो भी मरने के लिए तय्यार होनी चाहिए

दिल की नादानी ही बस काफ़ी नहीं है इश्क़ में
अक़्ल भी थोड़ी बहुत बीमार होनी चाहिए

प्यार है तो हाथ उस का थाम अपने हाथ में
जंग है तो हाथ में तलवार होनी चाहिए

- Charagh Sharma
6 Likes

Akhbaar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Charagh Sharma

As you were reading Shayari by Charagh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Charagh Sharma

Similar Moods

As you were reading Akhbaar Shayari Shayari