dil pareshaan hua jaata hai | दिल परेशान हुआ जाता है - Dagh Dehlvi

dil pareshaan hua jaata hai
aur samaan hua jaata hai

khidmat-e-peer-e-mughaan kar zaahid
tu ab insaan hua jaata hai

maut se pehle mujhe qatl karo
us ka ehsaan hua jaata hai

lazzat-e-ishq ilaahi mit jaaye
dard armaan hua jaata hai

dam zara lo ki mera dam tum par
abhi qurbaan hua jaata hai

giryaa kya zabt karoon ai naaseh
ashk paimaan hua jaata hai

bewafaai se bhi rafta rafta
vo meri jaan hua jaata hai

arsa-e-hashr mein vo aa pahunchen
saaf maidaan hua jaata hai

madad ai himmat-e-dushwaar-pasand
kaam aasaan hua jaata hai

chhaai jaati hai ye vehshat kaisi
ghar bayaabaan hua jaata hai

shikwa sun aankh mila kar zalim
kyun pashemaan hua jaata hai

aatish-e-shauq bujhi jaati hai
khaak armaan hua jaata hai

uzr jaane mein na kar ai qaasid
tu bhi naadaan hua jaata hai

muztarib kyun na hon armaan dil mein
qaid mehmaan hua jaata hai

daagh khaamosh na lag jaaye nazar
she'r deewaan hua jaata hai

दिल परेशान हुआ जाता है
और सामान हुआ जाता है

ख़िदमत-ए-पीर-ए-मुग़ाँ कर ज़ाहिद
तू अब इंसान हुआ जाता है

मौत से पहले मुझे क़त्ल करो
उस का एहसान हुआ जाता है

लज़्ज़त-ए-इश्क़ इलाही मिट जाए
दर्द अरमान हुआ जाता है

दम ज़रा लो कि मिरा दम तुम पर
अभी क़ुर्बान हुआ जाता है

गिर्या क्या ज़ब्त करूँ ऐ नासेह
अश्क पैमान हुआ जाता है

बेवफ़ाई से भी रफ़्ता रफ़्ता
वो मिरी जान हुआ जाता है

अर्सा-ए-हश्र में वो आ पहुँचे
साफ़ मैदान हुआ जाता है

मदद ऐ हिम्मत-ए-दुश्वार-पसंद
काम आसान हुआ जाता है

छाई जाती है ये वहशत कैसी
घर बयाबान हुआ जाता है

शिकवा सुन आँख मिला कर ज़ालिम
क्यूँ पशेमान हुआ जाता है

आतिश-ए-शौक़ बुझी जाती है
ख़ाक अरमान हुआ जाता है

उज़्र जाने में न कर ऐ क़ासिद
तू भी नादान हुआ जाता है

मुज़्तरिब क्यूँ न हों अरमाँ दिल में
क़ैद मेहमान हुआ जाता है

'दाग़' ख़ामोश न लग जाए नज़र
शे'र दीवान हुआ जाता है

- Dagh Dehlvi
3 Likes

Gunaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Gunaah Shayari Shayari