kuchh bhi nahin hai khaak ke aazaar se pare | कुछ भी नहीं है ख़ाक के आज़ार से परे - Dilawar Ali Aazar

kuchh bhi nahin hai khaak ke aazaar se pare
dekha hai main ne baar-ha us paar se pare

ik naqsh kheenchta hai mujhe khwaab se udhar
ik dayra bana hua parkaar se pare

ya-rab nigaah-e-shauq ko wus'at naseeb ho
meri nazar pe baar hai deewaar se pare

tum khud hi daastaan badalte ho dafatan
ham warna dekhte nahin kirdaar se pare

kuchh lafz jin ko ab koi tarteeb chahiye
guzre hue khayal ke izhaar se pare

aazar ab un ka naam-o-nishaan mil nahin raha
udta hua ghubaar hai kohsaar se pare

कुछ भी नहीं है ख़ाक के आज़ार से परे
देखा है मैं ने बार-हा उस पार से परे

इक नक़्श खींचता है मुझे ख़्वाब से उधर
इक दायरा बना हुआ परकार से परे

या-रब निगाह-ए-शौक़ को वुसअत नसीब हो
मेरी नज़र पे बार है दीवार से परे

तुम ख़ुद ही दास्तान बदलते हो दफ़अतन
हम वर्ना देखते नहीं किरदार से परे

कुछ लफ़्ज़ जिन को अब कोई तरतीब चाहिए
गुज़रे हुए ख़याल के इज़हार से परे

'आज़र' अब उन का नाम-ओ-निशाँ मिल नहीं रहा
उड़ता हुआ ग़ुबार है कोहसार से परे

- Dilawar Ali Aazar
1 Like

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dilawar Ali Aazar

As you were reading Shayari by Dilawar Ali Aazar

Similar Writers

our suggestion based on Dilawar Ali Aazar

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari