koi atka hua hai pal shaayad | कोई अटका हुआ है पल शायद - Gulzar

koi atka hua hai pal shaayad
waqt mein pad gaya hai bal shaayad

lab pe aayi meri ghazal shaayad
vo akela hain aaj-kal shaayad

dil agar hai to dard bhi hoga
is ka koi nahin hai hal shaayad

jaante hain savaab-e-rehm-o-karam
un se hota nahin amal shaayad

aa rahi hai jo chaap qadmon ki
khil rahe hain kahi kanwal shaayad

raakh ko bhi kured kar dekho
abhi jalta ho koi pal shaayad

chaand doobe to chaand hi nikle
aap ke paas hoga hal shaayad

कोई अटका हुआ है पल शायद
वक़्त में पड़ गया है बल शायद

लब पे आई मिरी ग़ज़ल शायद
वो अकेले हैं आज-कल शायद

दिल अगर है तो दर्द भी होगा
इस का कोई नहीं है हल शायद

जानते हैं सवाब-ए-रहम-ओ-करम
उन से होता नहीं अमल शायद

आ रही है जो चाप क़दमों की
खिल रहे हैं कहीं कँवल शायद

राख को भी कुरेद कर देखो
अभी जलता हो कोई पल शायद

चाँद डूबे तो चाँद ही निकले
आप के पास होगा हल शायद

- Gulzar
7 Likes

Aah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar

As you were reading Shayari by Gulzar

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar

Similar Moods

As you were reading Aah Shayari Shayari