jawaani ke taraane ga raha hoon | जवानी के तराने गा रहा हूँ - Hafeez Jalandhari

jawaani ke taraane ga raha hoon
dabii chingaariyaan sulga raha hoon

meri bazm-e-wafa se jaane waalo
thehar jaao ki main bhi aa raha hoon

buton ko qaul deta hoon wafa ka
qasam apne khuda ki kha raha hoon

wafa ka laazmi tha ye nateeja
saza apne kiye ki pa raha hoon

khuda-lagti kaho but-khaane waalo
tumhaare saath mein kaisa raha hoon

zahe vo gosha-e-raahat ki jis mein
hujoom-e-ranj le kar ja raha hoon

charaagh-e-khaana-e-darvesh hoon main
idhar jalta udhar bujhta raha hoon

naye kaabe ki buniyaadon se poocho
purane but-kade kyun dhaa raha hoon

nahin kaante bhi kya ujde chaman mein
koi roke mujhe main ja raha hoon

hui jaati hai kyun betaab manzil
musalsal chal raha hoon aa raha hoon

hafiz apne paraaye ban rahe hain
ki main dil ko zabaan pe la raha hoon

जवानी के तराने गा रहा हूँ
दबी चिंगारियाँ सुलगा रहा हूँ

मिरी बज़्म-ए-वफ़ा से जाने वालो
ठहर जाओ कि मैं भी आ रहा हूँ

बुतों को क़ौल देता हूँ वफ़ा का
क़सम अपने ख़ुदा की खा रहा हूँ

वफ़ा का लाज़मी था ये नतीजा
सज़ा अपने किए की पा रहा हूँ

ख़ुदा-लगती कहो बुत-ख़ाने वालो
तुम्हारे साथ में कैसा रहा हूँ

ज़हे वो गोशा-ए-राहत कि जिस में
हुजूम-ए-रंज ले कर जा रहा हूँ

चराग़-ए-ख़ाना-ए-दर्वेश हूँ मैं
इधर जलता उधर बुझता रहा हूँ

नए काबे की बुनियादों से पूछो
पुराने बुत-कदे क्यूँ ढा रहा हूँ

नहीं काँटे भी क्या उजड़े चमन में
कोई रोके मुझे मैं जा रहा हूँ

हुई जाती है क्यूँ बेताब मंज़िल
मुसलसल चल रहा हूँ आ रहा हूँ

'हफ़ीज़' अपने पराए बन रहे हैं
कि मैं दिल को ज़बाँ पे ला रहा हूँ

- Hafeez Jalandhari
0 Likes

Gunaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Jalandhari

As you were reading Shayari by Hafeez Jalandhari

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Jalandhari

Similar Moods

As you were reading Gunaah Shayari Shayari