aaye hain meer munh ko banaaye khafa se aaj | आए हैं 'मीर' मुँह को बनाए ख़फ़ा से आज - Meer Taqi Meer

aaye hain meer munh ko banaaye khafa se aaj
shaayad bigad gai hai kuchh us bewafa se aaj

waashud hui na dil ko faqeeron ke bhi mile
khulti nahin girah ye kasoo ki dua se aaj

jeene mein ikhtiyaar nahin warna hum-nasheen
ham chahte hain maut to apni khuda se aaj

saaqi tuk ek mausam-e-gul ki taraf bhi dekh
tapka pade hai rang chaman mein hawa se aaj

tha jee mein us se miliye to kya kya na kahiye meer
par kuchh kaha gaya na gham-e-dil haya se aaj

आए हैं 'मीर' मुँह को बनाए ख़फ़ा से आज
शायद बिगड़ गई है कुछ उस बेवफ़ा से आज

वाशुद हुई न दिल को फ़क़ीरों के भी मिले
खुलती नहीं गिरह ये कसू की दुआ से आज

जीने में इख़्तियार नहीं वर्ना हम-नशीं
हम चाहते हैं मौत तो अपनी ख़ुदा से आज

साक़ी टुक एक मौसम-ए-गुल की तरफ़ भी देख
टपका पड़े है रंग चमन में हवा से आज

था जी में उस से मिलिए तो क्या क्या न कहिए 'मीर'
पर कुछ कहा गया न ग़म-ए-दिल हया से आज

- Meer Taqi Meer
1 Like

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari