chaman mein gul ne jo kal daava-e-jamaal kiya | चमन में गुल ने जो कल दावा-ए-जमाल किया - Meer Taqi Meer

chaman mein gul ne jo kal daava-e-jamaal kiya
jamaal-e-yaar ne munh us ka khoob laal kiya

falak ne aah tiri rah mein ham ko paida kar
b-rang-e-sabz-e-noorasta paayemaal kiya

rahi thi dam ki kashaaksh gale mein kuchh baaki
so us ki teg ne jhagda hi infisaal kiya

meri ab aankhen nahin khultin zof se hamdam
na kah ki neend mein hai tu ye kya khayal kiya

bahaar-e-rafta phir aayi tire tamaashe ko
chaman ko yum-e-qadam ne tire nihaal kiya

javaab-naama siyaahi ka apni hai vo zulf
kisoo ne hashr ko ham se agar sawaal kiya

laga na dil ko kahi kya suna nahin tu ne
jo kuchh ki meer ka is aashiqi ne haal kiya

चमन में गुल ने जो कल दावा-ए-जमाल किया
जमाल-ए-यार ने मुँह उस का ख़ूब लाल किया

फ़लक ने आह तिरी रह में हम को पैदा कर
ब-रंग-ए-सब्ज़-ए-नूरस्ता पाएमाल किया

रही थी दम की कशाकश गले में कुछ बाक़ी
सो उस की तेग़ ने झगड़ा ही इंफ़िसाल किया

मिरी अब आँखें नहीं खुलतीं ज़ोफ़ से हमदम
न कह कि नींद में है तू ये क्या ख़याल किया

बहार-ए-रफ़्ता फिर आई तिरे तमाशे को
चमन को युम्न-ए-क़दम ने तिरे निहाल किया

जवाब-नामा सियाही का अपनी है वो ज़ुल्फ़
किसू ने हश्र को हम से अगर सवाल किया

लगा न दिल को कहीं क्या सुना नहीं तू ने
जो कुछ कि 'मीर' का इस आशिक़ी ने हाल किया

- Meer Taqi Meer
1 Like

Afsos Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Afsos Shayari Shayari