jo dekho mere sher-e-tar ki taraf | जो देखो मिरे शेर-ए-तर की तरफ़ - Meer Taqi Meer

jo dekho mere sher-e-tar ki taraf
to maail na ho phir guhar ki taraf

koi daad-e-dil aah kis se kare
har ik hai so us fitna-gar ki taraf

mohabbat ne shaayad ki di dil ko aag
dhuaan sa hai kuchh is nagar ki taraf

lagin hain hazaaron hi aankhen udhar
ik aashob hai us ke ghar ki taraf

bahut rang milta hai dekho kabhu
hamaari taraf se sehar ki taraf

b-khud kis ko us taab-e-rukh ne rakha
kare kaun shams-o-qamar ki taraf

na samjha gaya abr kya dekh kar
hua tha meri chashm-e-tar ki taraf

tapkata hai palkon se khun muttasil
nahin dekhte ham jigar ki taraf

munaasib nahin haal-e-aashiq se sabr
rakhe hai ye daaru zarar ki taraf

kise manzil-e-dilkash-e-dehr mein
nahin meel khaatir safar ki taraf

rag-e-jaan kab aati hai aankhon mein meer
gaye hain mizaaj us kamar ki taraf

जो देखो मिरे शेर-ए-तर की तरफ़
तो माइल न हो फिर गुहर की तरफ़

कोई दाद-ए-दिल आह किस से करे
हर इक है सो उस फ़ित्ना-गर की तरफ़

मोहब्बत ने शायद कि दी दिल को आग
धुआँ सा है कुछ इस नगर की तरफ़

लगीं हैं हज़ारों ही आँखें उधर
इक आशोब है उस के घर की तरफ़

बहुत रंग मिलता है देखो कभू
हमारी तरफ़ से सहर की तरफ़

ब-ख़ुद किस को उस ताब-ए-रुख़ ने रखा
करे कौन शम्स-ओ-क़मर की तरफ़

न समझा गया अब्र क्या देख कर
हुआ था मिरी चश्म-ए-तर की तरफ़

टपकता है पलकों से ख़ूँ मुत्तसिल
नहीं देखते हम जिगर की तरफ़

मुनासिब नहीं हाल-ए-आशिक़ से सब्र
रखे है ये दारू ज़रर की तरफ़

किसे मंज़िल-ए-दिलकश-ए-दहर में
नहीं मील ख़ातिर सफ़र की तरफ़

रग-ए-जाँ कब आती है आँखों में 'मीर'
गए हैं मिज़ाज उस कमर की तरफ़

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Love Shayari Shayari