kaisa chaman aseeri mein kis ko idhar khayal | कैसा चमन असीरी में किस को इधर ख़याल - Meer Taqi Meer

kaisa chaman aseeri mein kis ko idhar khayal
parwaaz khwaab ho gai hai baal-o-par khayal

mushkil hai mit gaye hue naqshon ki phir numood
jo sooraten bigad gaeein un ka na kar khayal

moo ko abas hai taab kali yun hi tang hai
us ka dehan hai vahm-o-gumaan-o-kamar khayal

rukhsaar par hamaare dhalkane ko ashk ke
dekhe hai jo koi so kare hai guhar khayal

kis ko dimaagh-e-sher-o-sukhan zof mein ki meer
apna rahe hai ab to hamein beshtar khayal

कैसा चमन असीरी में किस को इधर ख़याल
पर्वाज़ ख़्वाब हो गई है बाल-ओ-पर ख़याल

मुश्किल है मिट गए हुए नक़्शों की फिर नुमूद
जो सूरतें बिगड़ गईं उन का न कर ख़याल

मू को अबस है ताब कली यूँ ही तंग है
उस का दहन है वहम-ओ-गुमान-ओ-कमर ख़याल

रुख़्सार पर हमारे ढलकने को अश्क के
देखे है जो कोई सो करे है गुहर ख़याल

किस को दिमाग़-ए-शेर-ओ-सुख़न ज़ोफ़ में कि 'मीर'
अपना रहे है अब तो हमें बेशतर ख़याल

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Environment Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Environment Shayari Shayari