bala se hain jo ye peshe-e-nazar dar-o-deewar | बला से हैं जो ये पेश-ए-नज़र दर-ओ-दीवार - Mirza Ghalib

bala se hain jo ye peshe-e-nazar dar-o-deewar
nigaah-e-shauq ko hain baal-o-par dar-o-deewar

wufoor-e-ashk ne kaashaane ka kiya ye rang
ki ho gaye mere deewar-o-dar dar-o-deewar

nahin hai saaya ki sun kar naved-e-maqdam-e-yaar
gaye hain chand qadam pesh-tar dar-o-deewar

hui hai kis qadar arzaani-e-may-e-jalwa
ki mast hai tire kooche mein har dar-o-deewar

jo hai tujhe sar-e-sauda-e-intizaar to aa
ki hain dukaan-e-mata-e-nazar dar-o-deewar

hujoom-e-giryaa ka samaan kab kiya main ne
ki gir pade na mere paanv par dar-o-deewar

vo aa raha mere ham-saaye mein to saaye se
hue fida dar-o-deewar par dar-o-deewar

nazar mein khatke hai bin tere ghar ki aabaadi
hamesha rote hain ham dekh kar dar-o-deewar

na pooch be-khudi-e-aish-e-maqdam-e-sailaab
ki naachte hain pade sar-b-sar dar-o-deewar

na kah kisi se ki ghalib nahin zamaane mein
hareef-e-raaz-e-mohabbat magar dar-o-deewar

बला से हैं जो ये पेश-ए-नज़र दर-ओ-दीवार
निगाह-ए-शौक़ को हैं बाल-ओ-पर दर-ओ-दीवार

वुफ़ूर-ए-अश्क ने काशाने का किया ये रंग
कि हो गए मिरे दीवार-ओ-दर दर-ओ-दीवार

नहीं है साया कि सुन कर नवेद-ए-मक़दम-ए-यार
गए हैं चंद क़दम पेश-तर दर-ओ-दीवार

हुई है किस क़दर अर्ज़ानी-ए-मय-ए-जल्वा
कि मस्त है तिरे कूचे में हर दर-ओ-दीवार

जो है तुझे सर-ए-सौदा-ए-इन्तिज़ार तो आ
कि हैं दुकान-ए-मता-ए-नज़र दर-ओ-दीवार

हुजूम-ए-गिर्या का सामान कब किया मैं ने
कि गिर पड़े न मिरे पाँव पर दर-ओ-दीवार

वो आ रहा मिरे हम-साए में तो साए से
हुए फ़िदा दर-ओ-दीवार पर दर-ओ-दीवार

नज़र में खटके है बिन तेरे घर की आबादी
हमेशा रोते हैं हम देख कर दर-ओ-दीवार

न पूछ बे-ख़ुदी-ए-ऐश-ए-मक़दम-ए-सैलाब
कि नाचते हैं पड़े सर-ब-सर दर-ओ-दीवार

न कह किसी से कि 'ग़ालिब' नहीं ज़माने में
हरीफ़-ए-राज़-ए-मोहब्बत मगर दर-ओ-दीवार

- Mirza Ghalib
1 Like

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari