dil-e-naadaan tujhe hua kya hai | दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है - Mirza Ghalib

dil-e-naadaan tujhe hua kya hai
aakhir is dard ki dava kya hai

hum hain mushtaaq aur vo be-zaar
ya ilaahi ye maajra kya hai

main bhi munh mein zabaan rakhta hoon
kaash poocho ki muddaa kya hai

jab ki tujh bin nahin koi maujood
phir ye hangaama ai khuda kya hai

ye pari-chehra log kaise hain
ghamza o ishwa o ada kya hai

shikan-e-zulf-e-ambareen kyunhai
nigah-e-chashm-e-surma sa kya hai

sabza o gul kahaan-se aaye hain
abr kya cheez hai hawa kya hai

hum ko un se wafa ki hai ummeed
jo nahin jaante wafa kya hai

haanbhala kar tira bhala hoga
aur darvesh ki sada kya hai

jaan tum par nisaar karta hoon
main nahin jaanta dua kya hai

main ne maana ki kuch nahin ghalib
muft haath aaye to bura kya hai

दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है

हम हैं मुश्ताक़ और वो बे-ज़ार
या इलाही ये माजरा क्या है

मैं भी मुंह में ज़बान रखता हूँ
काश पूछो कि मुद्दआ' क्या है

जब कि तुझ बिन नहीं कोई मौजूद
फिर ये हंगामा ऐ ख़ुदा क्या है

ये परी-चेहरा लोग कैसे हैं
ग़म्ज़ा ओ इश्वा ओ अदा क्या है

शिकन-ए-ज़ुल्फ़-ए-अंबरीं क्यूंहै
निगह-ए-चश्म-ए-सुरमा सा क्या है

सब्ज़ा ओ गुल कहांसे आए हैं
अब्र क्या चीज़ है हवा क्या है

हम को उन से वफ़ा की है उम्मीद
जो नहीं जानते वफ़ा क्या है

हांभला कर तिरा भला होगा
और दरवेश की सदा क्या है

जान तुम पर निसार करता हूं
मैं नहीं जानता दुआ क्या है

मैं ने माना कि कुछ नहीं 'ग़ालिब'
मुफ़्त हाथ आए तो बुरा क्या है

- Mirza Ghalib
6 Likes

Andaaz Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Andaaz Shayari Shayari