chahiye achhon ko jitna chahiye | चाहिए अच्छों को जितना चाहिए - Mirza Ghalib

chahiye achhon ko jitna chahiye
ye agar chahein to phir kya chahiye

sohbat-e-rindaa se waajib hai hazar
jaa-e-may apne ko kheecha chahiye

chaahne ko tere kya samjha tha dil
baare ab is se bhi samjha chahiye

chaak mat kar jaib be-ayyaam-e-gul
kuchh udhar ka bhi ishaara chahiye

dosti ka parda hai begaangi
munh chhupaana ham se chhodaa chahiye

dushmani ne meri khoya gair ko
kis qadar dushman hai dekha chahiye

apni ruswaai mein kya chalti hai sai
yaar hi hangaama-aara chahiye

munhasir marne pe ho jis ki umeed
na-ummeedi us ki dekha chahiye

ghaafil in mah-tal'atoon ke vaaste
chaahne waala bhi achha chahiye

chahte hain khoob-ruyon ko asad
aap ki soorat to dekha chahiye

चाहिए अच्छों को जितना चाहिए
ये अगर चाहें तो फिर क्या चाहिए

सोहबत-ए-रिंदाँ से वाजिब है हज़र
जा-ए-मय अपने को खींचा चाहिए

चाहने को तेरे क्या समझा था दिल
बारे अब इस से भी समझा चाहिए

चाक मत कर जैब बे-अय्याम-ए-गुल
कुछ उधर का भी इशारा चाहिए

दोस्ती का पर्दा है बेगानगी
मुँह छुपाना हम से छोड़ा चाहिए

दुश्मनी ने मेरी खोया ग़ैर को
किस क़दर दुश्मन है देखा चाहिए

अपनी रुस्वाई में क्या चलती है सई
यार ही हंगामा-आरा चाहिए

मुनहसिर मरने पे हो जिस की उमीद
ना-उमीदी उस की देखा चाहिए

ग़ाफ़िल इन मह-तलअ'तों के वास्ते
चाहने वाला भी अच्छा चाहिए

चाहते हैं ख़ूब-रूयों को 'असद'
आप की सूरत तो देखा चाहिए

- Mirza Ghalib
2 Likes

Dosti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Dosti Shayari Shayari