dil hi to hai na sang-o-khisht dard se bhar na aaye kyun | दिल ही तो है न संग-ओ-ख़िश्त दर्द से भर न आए क्यूँ - Mirza Ghalib

dil hi to hai na sang-o-khisht dard se bhar na aaye kyun
roenge ham hazaar baar koi hamein sataaye kyun

dair nahin haram nahin dar nahin aastaan nahin
baithe hain raahguzaar pe ham gair hamein uthaaye kyun

jab vo jamaal-e-dil-faroz soorat-e-mehr-e-neemroz
aap hi ho nazzara-soz parde mein munh chhupaaye kyun

dashna-e-ghamza jaan-sitaan naavak-e-naaz be-panaah
tera hi aks-e-rukh sahi saamne tere aaye kyun

qaid-e-hayaat o band-e-gham asl mein dono ek hain
maut se pehle aadmi gham se najaat paaye kyun

husn aur us pe husn-e-zan rah gai bul-hawas ki sharm
apne pe e'timaad hai gair ko aazmaaye kyun

waan vo ghuroor-e-izz-o-naaz yaa ye hijaab-e-paas-e-waz'a
raah mein ham milen kahaan bazm mein vo bulaaye kyun

haan vo nahin khuda-parast jaao vo bewafa sahi
jis ko ho deen o dil aziz us ki gali mein jaaye kyun

ghalib'-e-khasta ke baghair kaun se kaam band hain
roiyie zaar zaar kya kijie haaye haaye kyun

दिल ही तो है न संग-ओ-ख़िश्त दर्द से भर न आए क्यूँ
रोएँगे हम हज़ार बार कोई हमें सताए क्यूँ

दैर नहीं हरम नहीं दर नहीं आस्ताँ नहीं
बैठे हैं रहगुज़र पे हम ग़ैर हमें उठाए क्यूँ

जब वो जमाल-ए-दिल-फ़रोज़ सूरत-ए-मेहर-ए-नीमरोज़
आप ही हो नज़्ज़ारा-सोज़ पर्दे में मुँह छुपाए क्यूँ

दश्ना-ए-ग़म्ज़ा जाँ-सिताँ नावक-ए-नाज़ बे-पनाह
तेरा ही अक्स-ए-रुख़ सही सामने तेरे आए क्यूँ

क़ैद-ए-हयात ओ बंद-ए-ग़म अस्ल में दोनों एक हैं
मौत से पहले आदमी ग़म से नजात पाए क्यूँ

हुस्न और उस पे हुस्न-ए-ज़न रह गई बुल-हवस की शर्म
अपने पे ए'तिमाद है ग़ैर को आज़माए क्यूँ

वाँ वो ग़ुरूर-ए-इज्ज़-ओ-नाज़ याँ ये हिजाब-ए-पास-ए-वज़अ
राह में हम मिलें कहाँ बज़्म में वो बुलाए क्यूँ

हाँ वो नहीं ख़ुदा-परस्त जाओ वो बेवफ़ा सही
जिस को हो दीन ओ दिल अज़ीज़ उस की गली में जाए क्यूँ

'ग़ालिब'-ए-ख़स्ता के बग़ैर कौन से काम बंद हैं
रोइए ज़ार ज़ार क्या कीजिए हाए हाए क्यूँ

- Mirza Ghalib
3 Likes

Aadmi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Aadmi Shayari Shayari