mehram nahin hai tu hi navaa-ha-e-raaz ka | महरम नहीं है तू ही नवा-हा-ए-राज़ का - Mirza Ghalib

mehram nahin hai tu hi navaa-ha-e-raaz ka
yaa warna jo hijaab hai parda hai saaz ka

rang-e-shikasta subh-e-bahaar-e-nazaara hai
ye waqt hai shaguftan-e-gul-ha-e-naaz ka

tu aur soo-e-ghair nazar-ha-e-tez tez
main aur dukh tiri miza-ha-e-daraaz ka

sarfa hai zabt-e-aah mein mera vagarna mein
tooma hoon ek hi nafs-e-jaan-gudaaz ka

hain bas-ki josh-e-baada se sheeshe uchhal rahe
har gosha-e-bisaat hai sar sheesha-baaz ka

kaavish ka dil kare hai taqaza ki hai hunooz
nakhun pe qarz is girh-e-neem-baaz ka

taaraaj-e-kaavish-e-gham-e-hijraan hua asad
seena ki tha dafeena guhar-ha-e-raaz ka

महरम नहीं है तू ही नवा-हा-ए-राज़ का
याँ वर्ना जो हिजाब है पर्दा है साज़ का

रंग-ए-शिकस्ता सुब्ह-ए-बहार-ए-नज़ारा है
ये वक़्त है शगुफ़्तन-ए-गुल-हा-ए-नाज़ का

तू और सू-ए-ग़ैर नज़र-हा-ए-तेज़ तेज़
मैं और दुख तिरी मिज़ा-हा-ए-दराज़ का

सर्फ़ा है ज़ब्त-ए-आह में मेरा वगर्ना में
तोमा हूँ एक ही नफ़स-ए-जाँ-गुदाज़ का

हैं बस-कि जोश-ए-बादा से शीशे उछल रहे
हर गोशा-ए-बिसात है सर शीशा-बाज़ का

काविश का दिल करे है तक़ाज़ा कि है हुनूज़
नाख़ुन पे क़र्ज़ इस गिरह-ए-नीम-बाज़ का

ताराज-ए-काविश-ए-ग़म-ए-हिज्राँ हुआ 'असद'
सीना कि था दफ़ीना गुहर-हा-ए-राज़ का

- Mirza Ghalib
2 Likes

Aah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Aah Shayari Shayari