nikoohish hai saza fariyaadi-e-be-daad-e-dilbar ki | निकोहिश है सज़ा फ़रियादी-ए-बे-दाद-ए-दिलबर की - Mirza Ghalib

nikoohish hai saza fariyaadi-e-be-daad-e-dilbar ki
mabaada khandah-e-dandaan-numa ho subh mahshar ki

rag-e-laila ko khaak-e-dasht-e-majnoon reshgi bakshe
agar bowe baja-e-daana dahkaan nok nishtar ki

par-e-parwaana shaayad baadbaan-e-kashti-e-may tha
hui majlis ki garmi se rawaani daur-e-saaghar ki

karoon be-daad-e-zauq-e-par-fishaani arz kya qudrat
ki taqat ud gai udne se pehle mere shahpar ki

kahaan tak rooun us ke kheme ke peeche qayamat hai
meri qismat mein ya-rab kya na thi deewaar patthar ki

b-juz deewaangi hota na anjaam-e-khud-aaraai
agar paida na karta aaina zanjeer jauhar ki

ghuroor-e-lutf-e-saaqi nashsha-e-be-baaki-e-mastaan
nam-e-daaman-e-isyaaan hai taraawat mauj-e-kausar ki

mera dil maangte hain aariyat ahl-e-hawas shaayad
ye jaana chahte hain aaj daawat mein samundar ki

asad juz aab-e-bakhshidan ze-daryaa khizr ko kya tha
dubota chashma-e-haivaan mein gar kashti sikandar ki

निकोहिश है सज़ा फ़रियादी-ए-बे-दाद-ए-दिलबर की
मबादा ख़ंदा-ए-दंदाँ-नुमा हो सुब्ह महशर की

रग-ए-लैला को ख़ाक-ए-दश्त-ए-मजनूँ रेशगी बख़्शे
अगर बोवे बजा-ए-दाना दहक़ाँ नोक निश्तर की

पर-ए-परवाना शायद बादबान-ए-कश्ती-ए-मय था
हुई मज्लिस की गर्मी से रवानी दौर-ए-साग़र की

करूँ बे-दाद-ए-ज़ौक़-ए-पर-फ़िशानी अर्ज़ क्या क़ुदरत
कि ताक़त उड़ गई उड़ने से पहले मेरे शहपर की

कहाँ तक रोऊँ उस के खे़मे के पीछे क़यामत है
मिरी क़िस्मत में या-रब क्या न थी दीवार पत्थर की

ब-जुज़ दीवानगी होता न अंजाम-ए-ख़ुद-आराई
अगर पैदा न करता आइना ज़ंजीर जौहर की

ग़ुरूर-ए-लुत्फ़-ए-साक़ी नश्शा-ए-बे-बाकी-ए-मस्ताँ
नम-ए-दामान-ए-इस्याँ है तरावत मौज-ए-कौसर की

मिरा दिल माँगते हैं आरियत अहल-ए-हवस शायद
ये जाना चाहते हैं आज दावत में समुंदर की

'असद' जुज़ आब-ए-बख़्शीदन ज़े-दरिया ख़िज़्र को क्या था
डुबोता चश्मा-ए-हैवाँ में गर कश्ती सिकंदर की

- Mirza Ghalib
0 Likes

Kashti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Kashti Shayari Shayari