yun nahin vo nazar nahin aata | यूँ नहीं वो नज़र नहीं आता - Parvez Sahir

yun nahin vo nazar nahin aata
ham ko deedaar kar nahin aata

waqt achha zaroor aata hai
par kabhi waqt par nahin aata

sirf rona hi mujh ko aata hai
aur koi hunar nahin aata

jo bhi jaata hai us ke kooche mein
phir vo baar-e-digar nahin aata

us ka jalwa bhi ik tamasha hai
nazar aata hai par nahin aata

us ne jaate hue kaha saahir
waqt phir laut kar nahin aata

यूँ नहीं वो नज़र नहीं आता
हम को दीदार कर नहीं आता

वक़्त अच्छा ज़रूर आता है
पर कभी वक़्त पर नहीं आता

सिर्फ़ रोना ही मुझ को आता है
और कोई हुनर नहीं आता

जो भी जाता है उस के कूचे में
फिर वो बार-ए-दिगर नहीं आता

उस का जल्वा भी इक तमाशा है
नज़र आता है पर नहीं आता

उस ने जाते हुए कहा 'साहिर'!
वक़्त फिर लौट कर नहीं आता

- Parvez Sahir
0 Likes

Waqt Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parvez Sahir

As you were reading Shayari by Parvez Sahir

Similar Writers

our suggestion based on Parvez Sahir

Similar Moods

As you were reading Waqt Shayari Shayari